बच्चन पांडे मूवी रिव्यू । Bachchan Pandey Movie Review in Hindi

इस ब्लॉग में हम Bachchan Pandey movie review के बारे में बात करेंगे जिसे होली के दिन थिएटर्स में रिलीज़ किया गया हैं।

वैसे तो यार होली के दिन कौन फ़िल्म रिलीज़ करता हैं? लेकिन क्योंकि शुक्रवार था तो फ़िल्म रिलीज़ हुई हैं।

वैसे इसी दिन अमेज़ॉन प्राइम पर विद्या बालन और शेफ़ाली शाह की फ़िल्म Jalsa भी रिलीज़ हुई हैं, तो अगर आप फ़िल्म Jalsa के बारे में जानना चाहते हैं तो इस Jalsa review को जरूर पढ़ें।

फ़िल्म Bachchan Pandey का जब ट्रैलर रिलीज़ हुआ था तो उससे फ़िल्म की कहानी बिल्कुल साफ साफ समझी जा सकती थी।

लेकिन अब क्योंकि फ़िल्म रिलीज़ हो चुकी हैं तो हम फ़िल्म के बारे में सारी बातें डिटेल से करेंगे।

फ़िल्म Bachchan Pandey ओरिजनल कहानी नहीं हैं बल्कि यह तमिल फिल्म जिगरठण्डा की रीमेक हैं जो 2014 में रिलीज़ हुई थी।

लेकिन मैंने वो फ़िल्म नहीं देखी तो मैंने Bachchan Pandey को फ्रेश और ओरिजनल कहानी के तौर पर ही देखा हैं।

मुझे यक़ीन हैं की आप में से कई लोगों ने शायद वो फ़िल्म नहीं देखी इसलिए में फ़िल्म Bachchan Pandey का review एक फ्रेश कहानी के तौर पर ही करूँगा।

Bachchan Pandey Movie Review in Hindi

Bachchan Pandey Cast (स्टार कास्ट)

  • अक्षय कुमार – बच्चन पांडे
  • कृति सैनन – मायरा देवकर
  • जैकलीन फर्नांडीज – सोफी
  • अरशद वारसी – विशु
  • पंकज त्रिपाठी – भावेश भोपलो
  • प्रतीक बब्बर – वर्जिन
  • संजय मिश्रा – बुफेरिया चाचा
  • अभिमन्यु सिंह – पेंडुलम
  • सहर्ष कुमार शुक्ला – कांडी
  • स्नेहल डब्बी

Bachchan Pandey Details (जानकारी)

  • डायरेक्टर – फरहाद सामजी
  • राईटर्स – साजिद नाडियाडवाला, फरहाद सामजी, तुषार हीरानंदानी, स्पर्श खेतरपाल, ताशा भम्ब्रा, जीशान कादरी
  • आधारित – जिगरठण्डा (तमिल फिल्म)
  • प्रोड्यूसर – साजिद नाडियाडवाला
  • सिनेमेटोग्राफी – गेवेमिक यू. आर्य
  • म्यूजिक – जूलियस पेकियाम, अमाल मलिक, बी प्राक, जानी, विक्रम मोन्ट्रोसे, रॉय
  • रिलीज़ डेट – 18 मार्च 2022
  • रनिंग टाइम – 149 मिनट

Bachchan Pandey Movie Rating – 3

Bachchan Pandey Movie Story (कहानी)

फ़िल्म Bachchan Pandey की कहानी एक ऐसे गैंगस्टर की हैं जो बहुत ख़तरनाक हैं, लोगों को बेवज़ह मारना उसका शौक हैं और उसकी दहशत शोले फ़िल्म के गब्बर से कम नहीं हैं।

गैंगस्टर का नाम हैं Bachchan Pandey जिसके किरदार को अक्षय कुमार ने निभाया हैं।

बस इस गैंगस्टर की दहशत पहुँच जाती हैं एक फीमेल डायरेक्टर मायरा देवकर के पास जो उससे काफ़ी ज्यादा प्रभावित हो जाती हैं।

और Bachchan Pandey की लाइफ के बारे में जानने को काफ़ी उत्सुक हो जाती हैं, उसकी इच्छा हैं कि वो इस गैंगस्टर की जिंदगी पर एक फ़िल्म बनाएं और बॉलीवुड में फ़ेमस हो जाये।

ये भी पढ़ें:- Best Bollywood Crime Movies

बस कुछ ऐसा ही इरादा लेकर मायरा Bachchan Pandey के शहर में आती हैं अपने साथी विशु के साथ।

अब Bachchan Pandey के शहर में कोई दूसरे शहर से आकर उन पर नजर रखें और उन्हें पता ना चले, ऐसा कैसे हो सकता हैं।

तो बस अपने गैंगस्टर भईया को मायरा का पता चल गया और इन ज़नाब के लिए किसी गलती की सिर्फ एक ही सजा होती हैं और वो हैं मौत।

लेकिन फिर आता हैं कहानी में ट्विस्ट और अपने गैंगस्टर भईया की लाइफ का एक पुराना पन्ना खुलता हैं – Bachchan Pandey का अतीत।

खुशी और रोमांस से भरा अतीत जिसमें एक खूबसूरत सी परदेशीकि छोरी पर अपने भईया जी का दिल आ गया था और तब इनके सीने में भी दिल धड़कता था।

लेकिन फिर ऐसा क्या हुआ कि इन्हें अपने ही प्यार के पेट में खूनी ख़ंजर घोंपना पड़ा, इस राज से पर्दा आपको थिएटर जाकर ही उठाना पड़ेगा।

तो जब Bachchan Pandey ने अपने प्यार को नहीं बख्शा तो ये डायरेक्टर साहिबा किस खेत की मूली हैं।

फ़िल्म Bachchan Pandey में आपको डॉयलोग्स के नाम पर कुछ गिनी चुनी लाइन्स ही सुनने को मिलेगी जिन्हें सुनकर आपको शायद सुना सुना सा महसूस हो।

देखो बॉस, इस फ़िल्म के बारे में इंटरनेट पर काफ़ी सारी बातें चल रहीं हैं।

अधिकतर लोग इसे नापसंद कर रहें हैं और बायकॉट की रट लगा कर बैठे हैं तो वहीं कुछ लोग इसे हिट भी बता रहें हैं।

फ़िल्में देखने वाली दो टाइप की ऑडिएंस सबसे अधिक होती हैं।

पहली वो, जिन्हें सामाजिक मूल्यों वाली फ़िल्में देखनी होती हैं जिससे वो अपना ज्ञान बढ़ा पाए, ऐसी फ़िल्में जो हक़ीक़त से वास्ता रखती हो जैसे द कश्मीर फाइल्स

दूसरी टाइप की ऑडिएंस वो होती हैं जो फ़िल्में सिर्फ मनोरंजन के लिए देखती हैं, जिन्हें सिर्फ अपना दिमाग ख़ाली करना होता हैं।

ऐसी ऑडिएंस जो हफ़्ते भर या महीनें भर की थकान दूर करने के लिए फिल्में देखती हैं जिन्हें फ़िल्म के लॉजिक से कोई मतलब नहीं होता।

इसलिए अधिकतर ऑडिएंस ने साउथ इंडियन मूवीज़ की ओर रुख किया था जब उन्हें बॉलीवुड अच्छा कॉन्टेन्ट नहीं दे पा रहा था क्योंकि साउथ इंडियन का कॉन्टेन्ट लोगों को एंटरटेन करता हैं।

Bachchan Pandey एक टिपिकल बॉलीवुड मास फ़िल्म हैं जो उन ऑडिएंस के लिए हैं जिन्हें मास और एंटरटेनिंग फ़िल्में देखना पसन्द हैं।

यह एक ऐसी फिल्म हैं जिसे आप एक बार देखें और भूल जाए।

इससे ज्यादा अगर आप इस फ़िल्म से उम्मीद करोगे तो पछताओगे गुरु।

Bachchan Pandey Movie Review: म्यूजिक

फ़िल्म Bachchan Pandey में कुल चार गाने हैं जिन्हें आप एवरेज़ मान सकतें हो या फिर एवरेज़ से थोड़े से बेहतर।

फ़िल्म में कोई ऐसा गाना नहीं हैं जो ऑडिएंस की ज़ुबान पर थम जाए, फ़िल्म के गानों से कुछ लोगों को शायद दिक्कत हो क्योंकि कुछ गानों के लिरिक्स उतने बेहतर नहीं हैं जो हमें अक्सर अक्षय कुमार की फिल्मों में सुनने को मिलते हैं।

फ़िल्म का म्यूजिक अमाल मलिक, बी प्राक, जानी, विक्रम मोन्ट्रोसे और रॉय ने दिया हैं जो ठीक ठाक हैं।

जब किसी फिल्म से बी प्राक और जानी का नाम जुड़ा होता हैं तो उससे उम्मीदें कुछ ज्यादा ही हो जाती हैं।

ये भी पढ़ें:- Best Bollywood Comedy Movies

कुछ ऐसा ही था Bachchan Pandey के मामले में भी, हमें उम्मीदें तो काफ़ी थी पर उतना कमाल का म्यूजिक सुनने को नहीं मिला।

खैर, फ़िल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक वाकई कमाल का था।

इस फ़िल्म में जब जब बैकग्राउंड म्यूजिक बजा, एक अलग ही महसूस हुआ जो फ़िल्म से बाँधे रखने की कोशिश कर रहा था।

फ़िल्म Bachchan Pandey के गानों के बजाय फ़िल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक अधिक बेहतर था।

Bachchan Pandey Movie Review: परफॉर्मेंस

और अब बात करते हैं Bachchan Pandey movie review के सबसे खास सेगमेंट की – कलाकारों की परफॉर्मेंस।

देखो दोस्त, फ़िल्म में अक्षय कुमार हैं तो ज़ाहिर सी बात हैं कि आपको उम्दा एक्टिंग ही देखने को मिलेगी।

अक्षय कुमार के फैंस की तो बल्ले बल्ले हैं।

अक्षय कुमार से आप जो उम्मीदें रखते हो, फ़िल्म Bachchan Pandey से आप बिल्कुल भी निराश नहीं होंगे।

फ़िल्म में उनकी ज़िंदगी के दो पहलू हैं, एक गैंगस्टर Bachchan Pandey का तो दूसरा उनके अतीत का।

दोनों ही पहलुओं में अक्षय कुमार पूरी तरह छाये हुए हैं बॉस।

पूरी फ़िल्म को अपने कंधे पर उठाकर चल रहें हैं और जब भी अक्षय स्क्रीन पर आते हैं तो तबाही ही मचाते हैं।

फ़िल्म का दूसरा सबसे अहम किरदार हैं मायरा देवकर का जो एक डायरेक्टर का किरदार हैं जिसे कृति सेनन ने निभाया हैं।

कृति को पिछली कई फ़िल्मों से में एक तरह की एक्टिंग करते देखता आ रहा हूँ जो इस फ़िल्म में भी जारी हैं।

उनसे इस बार कुछ अलग की उम्मीद थी लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं।

जैकलीन फर्नांडीज फ़िल्म में खूबसूरत लगी हैं, उनका किरदार एक परदेशी लड़की का था तो उन्हें इस कैरेक्टर को प्ले करने में उतनी मुश्किल नहीं हुई।

अरशद वारसी, मेरे हिसाब से इनके टैलेंट के साथ अन्याय हुआ हैं।

इन्हें सिर्फ फ़िल्म में तब स्क्रीन दी जाती हैं जब माहौल को थोड़ा नरम बनाने की जरूरत होती हैं और जब वो ऐसा कर देते हैं तो फिर से उन्हें बैकग्राउंड में गायब कर दिया जाता हैं।

इसके अलावा फिल्म का सबसे बड़ा एक्स फ़ेक्टर हैं पंकज त्रिपाठी जिन्होंने फ़िल्म में भावेश भोपलो का किरदार प्ले किया हैं।

फ़िल्म का कोई कैरेक्टर आपको हँसा पाए या नहीं लेकिन इतनी गारन्टी में दे सकता हूँ कि जब पंकज त्रिपाठी स्क्रीन पर आएंगे आप जोर से हँस पडोगे।

ये जनाब फ़िल्म में हँसी का गुब्बार लेकर आते हैं और आपकी सारी थकान को एक पल में दूर कर देते हैं।

इसके अलावा फिल्म में कुछ ओर कैरेक्टर्स भी हैं जिन्होंने कमाल की परफॉर्मेंस की हैं और Bachchan Pandey को देखने लायक बनाया।

ओवरऑल, फ़िल्म के सभी कलाकारों ने अच्छी और सराहनीय परफॉर्मेंस की हैं।

Bachchan Pandey Movie Review: क्या अच्छा क्या बुरा?

अब बात करते हैं उन चीज़ों की जो मुझे पर्सनली एक सिनेमा लवर होने के नाते अच्छी और बुरी लगी।

फ़िल्म का सबसे बड़ा आकर्षण हैं अक्षय कुमार।

उनका कैरेक्टर इतना जबरदस्त हैं कि आप उनकी एक्टिंग के एक बार फिर दीवाने हो जाओगे।

अगर आपको शक हैं कि बॉलीवुड का सबसे जबरदस्त कलाकार कौन हैं तो इस फ़िल्म में अक्षय कुमार की एक्टिंग देखने के बाद वो भी दूर हो जाएगा।

तो अगर अक्षय कुमार की परफॉर्मेंस को रेटिंग दी जाए तो मेरी तरफ से 5 में से 5 मिलेंगे बॉस।

और इस बात को में यक़ीन से कह सकता हूँ कि आपको भी फ़िल्म Bachchan Pandey में अक्षय कुमार का गेटअप काफ़ी पसन्द आया होगा।

akshay kumar in bachchan pandey

आया या नहीं? कॉमेंट करके जरूर बताना।

इसके साथ ही, फ़िल्म Bachchan Pandey के बैकग्राउंड म्यूजिक को कैसे भूल सकतें हैं।

फ़िल्म का लेवल वाकई काफ़ी ऊँचा किया हैं इसके BGM ने, कमाल का म्यूजिक हैं।

इनके अलावा, फ़िल्म में पंकज त्रिपाठी का कैरेक्टर वाकई आपका दिल जीत लेता हैं।

एक बेबाक और मजाकिया किरदार जो आपको हँसे बिना थिएटर से बाहर नहीं निकलने देगा।

हालांकि फिल्म में अच्छी बातों से ज्यादा बुरी बातें हैं जिन्हें लेकर मुझे शिकायतें हैं।

फ़िल्म में आपको एक भी अच्छा डायलॉग सुनने को नहीं मिलेगा।

अब जब आप अक्षय कुमार को एक गैंगस्टर के किरदार में ऑडिएंस के सामने प्रस्तुत कर रहें हो तो ज़ाहिर सी बात हैं उस किरदार को प्रभावशाली बनाने के लिए आपको भारी डॉयलोग्स की जरूरत पड़ेगी, लेकिन वो Bachchan Pandey से एकदम गायब हैं।

न तो डॉयलोग्स में क्रिएटिविटी देखने को मिली और ना ही कहानी में, राइटिंग एकदम जीरो।

फ़िल्म का डायरेक्शन काफ़ी बेहतर हो सकता था, अरशद वारसी जैसे टैलेंट को बर्बाद करना बिल्कुल भी अच्छा डायरेक्शन नहीं हैं दोस्त।

हालांकि फिल्म में इमोशन्स की भी कमी हैं जो आपको कहानी से जोड़ने का काम कर सकतें थे लेकिन अब क्योंकि ये एक मास सिनेमा हैं तो हम इस बारे में कम ही बात करेंगे।

देखों बॉस, सबसे अहम सवाल – क्या आपको Bachchan Pandey का टिकट खरीदकर थिएटर जाना चाहिए या फिर ओटीटी को अपना सच्चा दोस्त बनाना समझदारी भरा निर्णय होगा?

ये भी पढ़ें:- Best Bollywood Action Movies

हमेशा की तरह सीधा सा जवाब दूँगा।

अगर आप अक्षय कुमार के फैन हैं या फिर मास सिनेमा देखने के शौकीन हैं तो अभी टिकट बुक करो और भाग जाओ सिनेमाघरों में।

साथ ही, अपने काम से काफ़ी बोर हो गए हो और दिमाग को खाली करने के लिए एक टाईमपास विकल्प तलाश रहें हो तो भी थिएटर में अक्षय कुमार आपका इंतज़ार कर रहें हैं।

लेकिन ध्यान रहें, फ़िल्म से ज़बरदस्ती ज्यादा उम्मीदें ना लगाना।

लेकिन अगर आप मीनिंगफुल सिनेमा देखना पसंद करते हो तो भईया द कश्मीर फाइल्स अब भी थिएटर्स में लगी हुई हैं, जा सकतें हो।

या फ़िर Bachchan Pandey का ओटीटी पर रिलीज़ होने का इंतज़ार करो।

और तब तक अमेज़ॉन प्राइम पर रिलीज़ हुई सस्पेंस और थ्रिल से भरी फ़िल्म Jalsa भी एक अच्छा विकल्प हैं।

एक निवेदन उन लोगों से जिन्होंने Bachchan Pandey देख ली हैं, अपना review कॉमेंट्स में जरूर लिखकर शेयर करें ताकि लोगों को फ़िल्म को लेकर शंकाएं थोड़ी दूर हो।

साथ ही, वो लोग जो Bachchan Pandey को लेकर अभी भी कन्फ्यूज हैं, क्या आप इस फ़िल्म को थिएटर में देखोगे या फिर ओटीटी पर रिलीज़ होने का इंतज़ार करने का फ़ैसला कर चुके हो?

बताना जरूर।

Bachchan Pandey Movie Review: FAQ’s

Bachchan Pandey मूवी कब रिलीज़ हुई?

फ़िल्म Bachchan Pandey को शुक्रवार होली के दिन 18 मार्च को थिएटर्स में रिलीज़ किया गया था।

Bachchan Pandey कितने बजट में बनी हैं?

फ़िल्म Bachchan Pandey के बजट को लेकर अभी तक फ़िल्म मेकर्स की ओर से कोई ऑफिशियल स्टेटमेंट नहीं आया हैं लेकिन फ़िल्म का बजट 150 करोड़ से 200 करोड़ के बीच माना जा रहा हैं जिसमें अक्षय कुमार की फीस करीब 90 करोड़ भी शामिल हैं।

Bachchan Pandey की star cast क्या हैं?

फ़िल्म में अक्षय कुमार और कृति सेनन लीड कैरेक्टर्स प्ले कर रहें हैं जबकि अरशद वारसी, पंकज त्रिपाठी और जैकलीन फर्नांडीज सपोर्टिंग कैरेक्टर्स में हैं।

Bachchan Pandey ओरिजनल फ़िल्म हैं या रीमेक?

Bachchan Pandey तमिल फ़िल्म जिगरठण्डा की रिमेक हैं जिसे साल 2014 में रिलीज़ किया गया था। जिगरठण्डा को साउथ कोरियन फ़िल्म द डर्टी कार्निवल से इन्सपायर होकर बनाया गया था जो साल 2006 में रिलीज़ हुई थी।

फ़िल्म Bachchan Pandey को कितनी रेटिंग मिली हैं?

फ़िल्म Bachchan Pandey को आईएमडीबी पर ऑडिएंस द्वारा 5 से अधिक की रेटिंग मिली हैं और फ़िल्म क्रिटिक्स की ओर से इस फ़िल्म को 5 में से 3.5 रेटिंग्स दी गयी हैं।

जबकि Filmy Baatcheet की ओर से फ़िल्म Bachchan Pandey को 3 रेटिंग्स मिली हैं।

फ़िल्म Bachchan Pandey की क्या story हैं?

यह फ़िल्म एक गैंगस्टर (Bachchan Pandey) के ऊपर बनी हैं जिसे लोगों को मारने में मजा आता हैं, एक बॉलीवुड डायरेक्टर इस गैंगस्टर की ज़िंदगी पर फ़िल्म बनाने के लिए उसके शहर आती हैं जहाँ उसका सामना खुद Bachchan Pandey से होता हैं।

फ़िल्म में कॉमेडी और एक्शन दोनों हैं जो मास ऑडिएंस को बेहद पसन्द आने वाले हैं।

आप फ़िल्म Bachchan Pandey को कितनी रेटिंग्स देना चाहते हैं?

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply