Badhaai Do Movie Review in Hindi

ओटीटी प्लेटफॉर्म Zee5 पर राजकुमार राव की मोस्ट अवेटेड फ़िल्म Badhaai Do रिलीज़ हो गयी हैं।

इस फ़िल्म में राजकुमार राव और भूमि पेडनेकर मुख्य भूमिका में नजर आएंगे।

वैसे जिन्हें नहीं पता उन्हें बताया दूँ की यह फ़िल्म साल 2018 में रिलीज़ हुई फ़िल्म Badhaai Ho का सक्सेसर सीक्वल हैं यानी की Badhaai Ho से एकदम मिलती-जुलती।

उस फिल्म में मुख्य भूमिका में थे आयुष्मान खुराना, जहाँ उनके माँ बाप एक बार फिर से माँ बाप बनने वाले थे।

लेकिन यहाँ फ़िल्म Badhaai Do में माजरा कुछ ओर ही हैं।

पिछले काफ़ी समय से इस फ़िल्म को लेकर बॉलीवुड के गलियारों में बातें चल रहीं थी जिसका सबसे बड़ा कारण था, फ़िल्म Badhaai Do का टॉपिक।

क्या हैं इस फ़िल्म का टॉपिक और क्या यह लोगों की उम्मीदों पर खरी उतरी?

बस इसी पर हम बात करेंगे इस Badhaai Do review में।

Badhaai Do Movie Review in Hindi

Badhaai Do Movie Cast (स्टार कास्ट)

  • राजकुमार राव – शार्दूल ठाकुर (पुलिस ऑफ़िसर)
  • भूमि पेडनेकर – सुमन सिंह उर्फ़ सुम्मी (फिजिकल एजुकेशन टीचर)
  • चुम दारंग – रिमझिम जोंगकेई (सुमन की गर्लफ्रैंड)
  • सीमा पाहवा – शार्दूल की आंटी
  • शीबा चड्ढा – मिसेज़ ठाकुर (शार्दूल की माँ)
  • गुलशन देवैया – गुरु नारायण (शार्दूल का बॉयफ्रैंड)
  • लवलीन मिश्रा – मिसेज़ सिंह (सुमन की माँ)
  • नितेश पांडे – मिस्टर सिंह (सुमन के पिताजी)
  • दीपक अरोड़ा – कबीर (शार्दूल का एक्स बॉयफ्रैंड)
  • शशि भूषण

Badhaai Do Movie Details (जानकारी)

  • डायरेक्टर – हर्षवर्धन कुलकर्णी
  • राईटर्स – सुमन अधिकारी, अक्षत घिल्डियाल, हर्षवर्धन कुलकर्णी
  • प्रोड्यूसर – विनीत जैन
  • सिनेमेटोग्राफी – स्वप्निल सोनावने
  • म्यूजिक – हितेश सोनिक, अमित त्रिवेदी, तनिष्क बागची, अंकित तिवारी, खामोश शाह
  • ओटीटी प्लेटफॉर्म – Zee5
  • रिलीज़ डेट – 11 फ़रवरी 2022
  • रनिंग टाइम – 147 मिनट
  • बजट – 35 करोड़

Badhaai Do Movie Rating (रेटिंग): 5 में से 4 स्टार्स

Badhaai Do Movie Story (कहानी)

फ़िल्म Badhaai Do की कहानी हैं दो लोगों की – शार्दूल ठाकुर और सुमन सिंह जिन्हें सुम्मी कहकर बुलाते हैं।

अब हमारे शार्दूल भईया हैं एक पुलिस ऑफ़िसर जिनका इस तरह देश की सेवा करने का कोई इरादा नहीं था लेकिन अपने पापा की मौत होने के बाद सरकार ने इन्हें ये नोकरी ऑफर कर दी।

और भला भारत में ऐसा कौन होगा जो सामने रखी सरकारी नोकरी को ठोकर मार दे?

तो बस शार्दूल ने भी वहीं किया जो करोड़ो लोग करते हैं और बन गए पुलिस ऑफ़िसर।

वहीं दूसरी ओर सुम्मी एक फिजिकल एजुकेशन टीचर हैं।

ये भी पढ़ें:- Helmet movie review

अब दोनों की उम्र 30 को पार कर गयी हैं, तो लाज़मी हैं कि शादी के लिए घरवालों के दबाव भी काफ़ी ज्यादा होगा, तो बस इसी वजह से दोनों काफ़ी परेशान रहते हैं।

फिर एक दिन कुछ ऐसा होता हैं कि इन दोनों की मुलाकात होती हैं और हमारे शार्दूल भईया इनके पीछे पड़ जाते हैं।

अब यहाँ इस फ़िल्म का सबसे बड़ा ट्विस्ट छुपा था लेकिन बॉलीवुड के एडिटर्स को किसी फ़िल्म का ट्रैलर काटना ही कहाँ आता हैं।

जब फ़िल्म Badhaai Do का ट्रैलर रिलीज़ हुआ तो उसी में सब कुछ बड़े ही विस्तार से खोलकर रख दिया गया।

जिस तरह सुमन को लड़को में रत्तीभर भी दिलचस्पी नहीं हैं लेकिन हमारे शार्दूल भईया को हैं।

मतलब अगर आप इस फ़िल्म को ना भी देखों तो इसके ट्रैलर को देखकर फ़िल्म की पूरी कहानी समझ जाओगे।

खैर, अब शार्दूल को सुमन के बारे में ये पता चल चुका था कि वो लेस्बियन हैं मतलब उसे लड़को में दूर दूर तक कोई दिलचस्पी नहीं हैं।

तो बस वो सुमन से किसी तरह मिलता हैं और अपनी ज़िंदगी की सबसे बड़ी सच्चाई बताता हैं कि उसे लड़कियाँ नहीं लड़के पसन्द हैं।

badhaai do movie scene

उसके बाद वो एक प्लान बनाता हैं कि अगर हम दोनों शादी करलें तो घर वालों का शादी को लेकर दबाव भी ख़त्म और हम भी अपनी अपनी ज़िंदगी को अच्छे से जी पाएंगे।

अब सुमन भी कुछ ऐसा ही चाहती थी तो उसे इस प्लान से कोई आपत्ति नहीं हुई।

तो बस फिर क्या था?

कुछ ही दिनों में दोनों की शादी हो गयी और दोनों शहर से दूर एक फ्लैट लेकर रहने लगे।

बस Badhaai Do फ़िल्म की कहानी कुछ ऐसे ही खुशी भरें पलों के साथ आगे बढ़ रहीं थी कि उनके घरवालों को उनकी इस सच्चाई का पता चल गया।

ये भी पढ़ें:- Bunty Aur Babli 2 movie review

अब अगर किसी की बेटी को किसी ओर की बेटी ही पसन्द हैं और किसी के बेटे को किसी की बेटी नहीं बल्कि बेटा ही पसन्द हैं तो उनके घरवालों का क्या रिएक्शन होगा? ये आप समझ सकतें हो।

फ़िल्म Badhaai Do की कहानी बस यहीं हैं जिसमें ज्यादा हँसी और थोड़ा सा रोना भी आएगा।

Badhaai Do Review: एक्टिंग

फ़िल्म के मुख्य दो कलाकार हैं राजकुमार राव और भूमि पेडनेकर।

ये दोनों बॉलीवुड के उन कलाकारों में से हैं जिन्हें आप कोई भी रोल दे दो, ये आपको उसमें कमाल की परफॉर्मेंस करके देंगे।

फ़िल्म Badhaai Do में गे और लेस्बियन का किरदार निभाना वाकई मुश्किलों भरा था लेकिन दोनों ने अपनी बेहतरीन अदाकारी के दम पर सभी का दिल जीत लिया।

आपको एक पल के लिए ऐसा महसूस नहीं होगा कि ये दोनों एक्टिंग कर रहें हैं।

हमेशा की तरह दोनों की टॉप नॉच परफॉर्मेंस।

दूसरी ओर सपोर्टिंग कैरेक्टर्स में चुम दारंग ने कमाल की एक्टिंग की हैं।

अरूणाचल प्रदेश की रहने वाली चुम दारंग पेशे से मॉडल और एक्टर हैं जिन्हें पहली बार बॉलीवुड में इतना बड़ा रोल मिला हैं।

ये भी पढ़ें:- Mimi movie review

इससे पहले वो 2020 में आई वेब सीरीज़ “पाताल लोक” में भी एक छोटा रोल कर चुकी हैं।

इसके अलावा, सीमा पाहवा और शीबा चड्ढा ने अपनी एक्टिंग से फ़िल्म को दिलचस्प बनाएं रखा।

इनके किरदार को उतना स्क्रीन टाइम नहीं मिला लेकिन जितना भी मिला उसमें बस यहीं छाई रहीं।

Badhaai Do Review: म्यूजिक

फ़िल्म Badhaai Do का म्यूजिक अच्छा हैं और कुछ गाने लोगों को बेहद पसंद आये हैं जैसे बंदी टॉट, अटक गया।

फ़िल्म का म्यूजिक अमित त्रिवेदी, तनिष्क बागची और अंकित तिवारी जैसे म्यूजिशियन ने दिया हैं।

इस फ़िल्म में कुल 7 गाने हैं जो जब भी फ़िल्म में आते हैं तो फ़िल्म की परिस्थितियों को एकदम डिटेल में समझा देते हैं।

तो ओवरऑल, फ़िल्म Badhaai Do का म्यूजिक काफ़ी अच्छा हैं।

Badhaai Do Review: क्या अच्छा क्या बुरा?

सबसे पहले फ़िल्म Badhaai Do के टॉपिक के बारे में बात करते हैं।

बॉलीवुड में बरसों से LGBTQ कम्युनिटी के ऊपर फ़िल्में बनी हैं लेकिन हमेशा से इस कम्युनिटी का मजाक उड़ाया जाता रहा हैं हालांकि उसे justify भी कर दिया जाता था।

लेकिन Badhaai Do में जिस तरह इस कम्युनिटी को शुरू से लेकर अंत तक दिखाया गया हैं वो काफ़ी बेहतरीन हैं।

फ़िल्म हमें मैसेज देती हैं कि इन लोगों ने ये जिंदगी नहीं चुकी थी, ये उनकी गलती नहीं हैं कि वो गे या लेस्बियन हैं।

और ये चीज हमें वाकई समझनी होगी कि हम क्यों उन्हें हमसे अलग समझते हैं।

फ़िल्म में एक scene आता हैं जब शार्दूल के परिवार के सदस्य सुमन को लेकर बहुत कुछ बातें कहते हैं, बहुत से लोगों को ये बाते बड़ी कड़वी लगेंगी लेकिन वो खुद इन लोगों के लिए कुछ ऐसा ही महसूस करते हैं।

ये भी पढ़ें:- Hum Do Hamare Do movie review

तो हमें फ़िल्म जो मैसेज देना चाहती हैं उसे समझना होगा और इस कम्युनिटी के लोगों से आम लोगों की तरह ही व्यवहार करना होगा।

फ़िल्म में कहीं ऐसा कुछ नहीं हैं कि आप अपने घरवालों के सामने नहीं देख सकतें, ये एक फैमिली एंटरटेनर हैं और हर किसी को इसे अपने परिवार के साथ देखना चाहिए।

फ़िल्म को सबके दिलों में उतारने का सबसे बड़ा श्रेय जाता हैं फ़िल्म के कलाकारों को जिन्होंने कमाल की एक्टिंग की, स्पेशली राजकुमार राव और भूमि पेडनेकर।

आप Badhaai Do फ़िल्म को लेकर क्या सोचते हैं?

क्या वाकई ये लोगों की सोच में बदलाव ला पाएगी? या फिर बाकी फ़िल्मों की तरह इसे भी पब्लिक नजरअंदाज कर देगी।

वैसे आपने अभी तक Badhaai Do देखी या नहीं?

आप इस फ़िल्म को 5 में से कितनी रेटिंग देना चाहते हो?

नीचे कॉमेंट्स में फ़टाफ़ट लिख दो।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply