Bunty Aur Babli 2 Movie Review in Hindi: क्या दे पाएगी एंटरटेनमेंट का डोज?

हमारे बॉलीवुड को बड़ा शौक हैं सीक्वल प्रीक्वल खेलने का, पहली फ़िल्म ठीक ठाक कमा ले तो उसका दूसरा part बनाकर audience का बचा कुचा पैसा भी खींच लिया जाता हैं।

एक बात जो पब्लिक अच्छे से समझती हैं लेकिन शायद फ़िल्म इंडस्ट्री ही उसे जानबूझकर नजरअंदाज कर रहीं हैं की कुछ कहानियाँ ओरिजनल ही अच्छी लगती हैं, सिर्फ एक part बनाकर उन्हें छोड़ देना चाहिए।

Bunty Aur Babli एक आइकोनिक फ़िल्म हैं अपनी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के लिए, पहली बार लोगों ने अभिषेक बच्चन की एक एक्टर के तौर पर सराहना की तो वहीं फ़िल्म का म्यूजिक आज तक लोगों के दिल और दिमाग में मेहमान बना हुआ हैं।

कजरारे कजरारे कोई कैसे भूल सकता हैं भला?

अब 15 साल बाद फ़िल्म मेकर्स ने सोचा कि पुरानी यादों को ताजा करतें हैं और कहानी को थोड़ा आगे बढाते हैं।

और बस इसी तरह शुरुआत हुई Bunty Aur Babli 2 की।

करेंगे फ़िल्म की कहानी और रेटिंग की बात लेकिन उससे पहले Bunty Aur Babli 2 की casting और डिटेल्स जान लेते हैं थोड़ी।

Bunty Aur Babli 2 Movie Review in Hindi

Bunty Aur Babli 2 Cast (स्टार कास्ट)

  • सेफ़ अली खान – राकेश त्रिवेदी / बॉबी भुल्लर / बंटी सीनियर
  • रानी मुखर्जी – विम्मी सलूजा त्रिवेदी / क्युटि भुल्लर / बबली सीनियर
  • सिद्धान्त चतुर्वेदी – कुणाल सिंह / बंटी जूनियर
  • शरवरी वाघ – सोनिया रावत / बबली जूनियर
  • पंकज त्रिपाठी – पुलिस इंस्पेक्टर जटायु सिंह
  • यशपाल शर्मा – छुटवा चौबे
  • मोहित बघेल – गोलू चौबे (छुटवा का बेटा)
  • असरानी – थेरे सिंह
  • गोपाल दत्त – आईटी ऑफ़िसर नन्द किशोर
  • प्रेम चोपड़ा – पापाजी
  • नीरज सूद – मिस्टर चड्ढा
  • बृजेन्द्र काला – महमूद

Bunty Aur Babli 2 Details (जानकारी)

  • डायरेक्टर – वरुण वी. शर्मा
  • राईटर – वरुण वी. शर्मा
  • स्टोरी – आदित्य चोपड़ा
  • सिनेमेटोग्राफी – गेवेमिक यू आर्य
  • म्यूजिक – जूलियस पैकियम, शंकर-अहसान-लॉय
  • रिलीज़ डेट – 19 नवम्बर 2021
  • रनिंग टाइम – 138 मिनट
  • बजट – 45 करोड़
  • बॉक्स ऑफिस – 22.12 करोड़
  • IMDB रेटिंग – 3.9

ये भी पढ़ें:- Gehraiyaan Movie Review in Hindi दीपिका पादुकोण, सिद्धान्त चतुर्वेदी और अनन्या पांडे

Bunty Aur Babli 2 Story (कहानी)

अपने पुराने चोर अब फैमिली वाले बन गए हैं, भईया जी रेलवे स्टेशन पर टिकट काटते हैं तो भाभी जी गोलू मोलू की पढ़ाई लिखाई के साथ पूरे परिवार का वर्तमान और भविष्य संभालने में लगी हुई हैं।

इनकी ये साधारण सी जिंदगी इतनी ही शांति से चलती रहती अगर Bunty aur Babli का नया कांड सामने ना आता।

कांड तो कांड इनकी पहचान ये BB वाला दिल भी बड़ी शान से पुलिस को चांटा मारने के लिए सजाया गया हैं।

इस बेइज्जती का बदला लेने पुलिस के बड़े ऑफ़िसर साहब स्वयं Bunty aur Babli के मेहमान बनकर प्रकट होते हैं और चोर को चोरी का ईनाम देने की जिद करते हैं।

तब सामने आता हैं दिमाग़ को घुमाने वाला सच, होता ये हैं कि इस कांड के पीछे Bunty aur Babli 1 नहीं बल्कि Bunty aur Babli 2 हैं।

हाँ जी दो नए चेहरे मार्केट में उतरे हैं, पुराना नाम इस्तेमाल करके अपनी नई चालाकियों से कुछ बेईमान लोगों को बेईमानी का नया चैप्टर पढ़ाने के लिए।

ये भी पढ़ें:- Hungama 2 Movie Review in Hindi: Release Date, Cast, Story

मतलब जिनसे ये दोनों चोरी करते हैं वो खुद चोर हैं बस शराफत का मुखोटा धीरे धीरे उतर गया हैं चेहरे से।

देखों Bunty aur Babli 2 फ़िल्म का रिव्यू एक लाइन में हो सकता हैं, आख़िर क्या जरूरत थी इस फ़िल्म की?

कुछ भी नया नहीं हैं कुछ भी अलग नहीं हैं और यहाँ तक कि फ़िल्म के पुराने वाले part के साथ तो इस पार्ट की तुलना भी नहीं कर सकतें आप तो।

मतलब फ़िल्म कैसी हैं? इस बात अंदाज़ा आप इसी बात से लगा लो कि रानी मुखर्जी जैसी कमाल की एक्ट्रेस भी ओवर एक्टिंग कर रहीं हैं।

हर डायलॉग को इतना चिल्ला चिल्लाकर बोलना की सामने वाले कि सुनने की इच्छा ही ख़त्म हो जाये।

Bunty aur Babli 2 Review: एक्टिंग और परफॉर्मेंस

फ़िल्म में सेफ़ अली खान का कैरेक्टर जबरदस्ती मजाकिया बनाने की कोशिश में आधा अधूरा सा रह गया हैं, ना तो वो बंटी लगतें हैं और ना ही मजाकिया फैमिली मैन।

ना तो इमोशन्स हैं इनकी बातों में और ना ही फ़ीलिंग्स हैं, ऐसा लग रहा हैं जैसे कुछ लाइन्स दे दी गयीं हैं और इन्होंने पढ़कर बोल दी, बस।

जबकि ओरिजनल फ़िल्म में अभिषेक बच्चन ने audience को खुद के साथ बांध लिया था, वो पहली बार था जब अमिताभ बच्चन के साथ होने के बावजूद अभिषेक अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब हो गए थे।

ये भी पढ़ें:- Mimi Movie Review in Hindi: Release Date, Cast, Story

जो अभिषेक बच्चन और रानी मुखर्जी के बीच में लव केमिस्ट्री थी वो एकदम raw और natural महसूस हो रहीं थी। डॉयलोग्स बोलने का तरीका और आंखों ही आंखों में बातें करना।

जबकि Bunty aur Babli 2 में ना तो प्यार हैं और ना ही नफ़रत, बस फ़ालतू कॉमेडी घुसाने के लिए रानी मुखर्जी को पंजाबी लहज़ा पकड़ा दिया गया और सेफ़ अली खान के पेट के साइज को बढ़ा दिया गया।

इससे कहानी को फायदा कैसे पहुँचेगा भला?

चलो पुरानी बातों को छोड़ भी दो तो दो नए चेहरे, नए Bunty aur Babli इन दोनों के कैरेक्टर्स भी काफ़ी कमजोर हैं।

वास्तव में ये चोरी कर क्यों रहें हैं? फ़िल्म में सिर्फ बताया गया हैं, इनको चोरी करनी चाहिए ऐसा बिल्कुल महसूस नहीं होता।

वो पर्सनल कनेक्शन जो ओरिजनल कैरेक्टर्स के साथ था वो इस कहानी में डबल जीरो हो गया हैं, बस फ़िल्म की बची कुची इज्जत पंकज त्रिपाठी बचाने में लगें हुए हैं।

लेकिन इनका कैरेक्टर लूडो फ़िल्म वाले डॉन से एकदम कॉपी किया हुआ जैसा महसूस होता हैं।

bunty aur babli 2 movie review pankaj tripathi

एक तो इनकी तुलना सीधे अमिताभ बच्चन के साथ हैं जिससे दबाव वैसे ही सौ गुना बढ़ गया इसीलिए पंकज त्रिपाठी की अच्छी एक्टिंग भी कहीं दब सी जाती हैं।

लेकिन अब पंकज त्रिपाठी को थोड़ा बदलाव कर लेना चाहिए, हर फिल्म में एक जैसा ही मजाकिया किरदार एक दिन पब्लिक को बोर कर देगा और एक सच्चा टैलेंट बर्बाद हो जाएगा।

Bunty aur Babli 2 Review: म्यूजिक

Bunty aur Babli 2 फ़िल्म का म्यूजिक भी कुछ ख़ास नहीं हैं।

फ़िल्म में ऐसा कोई गाना नहीं हैं जो थिएटर से बाहर निकलने के बाद आप याद रखोगे और जिसे गुनगुनाना पसन्द करोगे।

जो अंदर सुना वो अंदर ही थिएटर की सीट पर ही छूट जाएगा।

यहाँ तक कि अरिजीत सिंह का गाना भी दोबारा सुनने का मन ना करें तो भईया ऐसे म्यूजिक का क्या फ़ायदा?

ये भी पढ़ें:- हम दो हमारे दो रिव्यू: Hum Do Hamare Do Movie Review in Hindi

Bunty aur Babli 2 Review: रेटिंग

तो यार मेरी तरफ़ से Bunty aur Babli 2 को 5 में से 2 स्टार्स।

एक स्टार तो कुछ funny situational comedy scenes के लिए जिनमें हँसी को ढूँढने की जरूरत नहीं पड़ेगी वो अपने आप आ जायेगी।

और एक स्टार फ़िल्म को ज़िंदा रखने की पंकज त्रिपाठी की कोशिश जिनकी वजह से दो घण्टे आप फ़िल्म देखने के लिए बैठ जाते हो।

बात करूँ नेगेटिव्ज की तो एक स्टार कटेगा अच्छे टैलेंट को बर्बाद करने वाले डायरेक्शन के लिए।

एक स्टार थोड़ी सी बोरिंग और धीमी कहानी जिसमें कुछ भी नया या यूनीक नहीं मिलेगा।

और एक स्टार काफ़ी कमजोर लेवल का म्यूजिक और जबरदस्ती कैरेक्टर्स को funny बनाने की कोशिश, दोनों चीजें फ़िल्म को भूलने के लिए मजबूर कर देंगी।

वैसे अगर आप चोरी पर बनी कोई बढ़िया सी कहानी देखना चाहते हो तो मत्स्या कांड देख लेना, वेब सीरीज़ हैं और MX Player पर free में मिल जाएगी और साथ में मेरा रिव्यू पढोगे तो समझ जाओगे की छोटा पैकेट बड़ा धमाका किसे बोलते हैं?

Bunty aur Babli 2 Review: FAQ

Bunty aur Babli 2 कब रिलीज़ हुई थी?

इस फ़िल्म को 19 नवम्बर 2021 को थिएटर्स में रिलीज़ किया गया था।

Bunty aur Babli 2 हिट फिल्म हैं या फ़्लॉप?

इस फ़िल्म को बनाने में कुल 45 करोड़ खर्च हुए थे जबकि फ़िल्म ने ओपनिंग डे पर 2.60 करोड़ और पहले हफ़्ते में कुल 8.30 करोड़ रुपये कमाए थे। इस फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर मात्र 22.12 करोड़ ही कमाये थे जिससे ये फ़्लॉप फिल्म्स कैटेगरी में आ गयी थी।

इस फ़िल्म को कहाँ देख सकतें हैं?

Bunty aur Babli 2 को ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेज़ॉन प्राइम पर रिलीज़ किया गया हैं और आप इसे यहाँ आसानी से देख सकतें हैं।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply