Dhamaka Movie Review in Hindi

सबसे ज्यादा मज़ा उन फिल्मों को देखने में आता हैं जिसके अगले scene में क्या होगा? बिल्कुल पता ना चले।

दिमाग को मानो जैसे काली पट्टी बाँधकर जंगल के बीच में अंधेरे में छोड़ दिया जाए।

बस कुछ ऐसा ही feel करोगे आज आप, घर पर बैठे बैठे एक चालाक कहानी आपको challange करने वाली हैं।

Dhamaka, 19 नवम्बर 2021 को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई यह फ़िल्म बिल्कुल अपने नाम की तरह इंडियन सिनेमा में आग लगा देगी।

जो लोग content based फ़िल्में देखना पसंद करते हैं, बॉस ये लॉटरी का वो टिकट हैं जिसको ईनाम लग गया हैं।

मेरा नाम हैं अमित और आज में लाया हूँ राम माधवानी निर्देशित धमाका फ़िल्म का रिव्यू

Dhamaka Movie Review in Hindi

Dhamaka Movie Cast (स्टार कास्ट)

धमाका फ़िल्म के लीड कैरेक्टर हैं अर्जुन पाठक जो कि एक जर्नलिस्ट होने के साथ साथ, रेडियो जॉकी और TRTV भरोसा 24/7 के होस्ट भी हैं और इनका कैरेक्टर प्ले किया हैं कार्तिक आर्यन ने।

अंकिता मलास्कर अर्जुन पाठक की बॉस हैं जिसका कैरेक्टर प्ले कर रहीं हैं अमृता सुभाष

ये भी पढ़ें:- Chandigarh Kare Aashiqui मूवी रिव्यू: रोमांस के साथ साथ सोशल मैसेज

धमाका फ़िल्म में विकास कुमार ने ऑफ़िसर प्रवीण कामथ का कैरेक्टर प्ले किया हैं जबकि सुभाष माथुर जो कि एक मंत्री का कैरेक्टर हैं, के कैरेक्टर को विश्वजीत प्रधान निभा रहें हैं।

फ़िल्म में special appearance में दिखाई देंगी मृणाल ठाकुर जो कि सौम्या मेहरा ठाकुर के कैरेक्टर को प्ले कर रहीं हैं और ये अर्जुन ठाकुर की ex-wife भी हैं।

Dhamaka Movie Story (स्टोरी)

कहानी TV news एंकर की हैं जो सूट-बूट पहनकर हज़ारों लाखों लोगों को अपने दिमाग से TV screen के उस पार बैठकर control करने में expert हैं।

लेकिन इस बार मामला थोड़ा complicated हैं क्योंकि इन एंकर भाईसाहब की हालत आज खुद मेले में घूमने वाले उस बदंर की तरह हो गयी हैं जिसको किसी दूसरे के इशारों पर नाचना पड़ता हैं।

एक फ़ोन call आता हैं जिसके उस पार बैठा बन्दा मुम्बई के मशहूर Sea Link को उड़ाने की धमकी देता हैं।

बात को हल्के में लेकर जैसे ही रिपोर्टर साहब फ़ोन काटने को आगे बढ़ते हैं, जोर का धमाका होता हैं।

ये भी पढ़ें:- Satyameva Jayate 2 मूवी रिव्यू: हिट या फ़्लॉप?

आगे ओर भी धमाके होंगे जिनमें मासूम लोग मारे जाएंगे और उन सब की मौत का जिम्मेदार एंकर बाबू को बनना पड़ेगा, कैसे? ये आप पता लगाओ नेटफ्लिक्स पर।

धमाका रोकना हैं तो छोटी सी शर्त को पूरा करना पड़ेगा।

मुम्बई के मशहूर मंत्री जी को TV पर बुलाके screen पर सबके सामने फ़ोन के दूसरी तरफ़ बैठे बन्दे से माफ़ी मांगनी पड़ेगी।

देखों फ़िल्म हैं एकदम कमाल। सबसे बढ़िया चीज़ कहानी रीमेक हैं लेकिन बाकी घिसी पीटी बॉलीवुड फिल्मों से अलग एकदम fresh हैं।

काफ़ी time बाद कुछ नया देखने को मिलेगा। ना तो फालतू का नाच गाना और ना ही नकली देशभक्ति, इन सब चीज़ों में audience का वक्त बिल्कुल भी बर्बाद नहीं किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- Antim Movie Review in Hindi: सलमान खान, आयुष शर्मा

पहले scene से ही सीधा एक्शन शुरू होता हैं और स्क्रीनप्ले एकदम तेज speed से भागने लगता हैं।

फ़िल्म का कांसेप्ट काफ़ी दमदार हैं जो देश की सबसे बड़ी ताकत मीडिया चैनल्स को बुरी तरह एक्सपोज़ कर देता हैं।

News दिखाने की जगह news बनाने पर फोकस डालना और उसको मिर्च मसाला लगाके बेचने के नए नए तरीके ढूँढना।

ये TV news वाले किसी जादूगर से कम थोड़े ही हैं, रोज शाम को नए नए हथकंडे अपनाएं जाते हैं मेरे आपके दिमाग पे और हम बस तालियाँ बजाते रह जाते हैं।

लेकिन एक चीज जो मेरे लिए बिल्कुल standout करती हैं वो हैं लीड एक्टर को हीरो की जगह विलेन बनाकर प्रस्तुत करना।

बहुत हिम्मत चाहिए होती हैं हीरो को इस तरह के किरदार में दिखाने के लिए।

इसके द्वारा दमदार राईटिंग का सबूत मिलता हैं जो बुरा होने के बाद भी एक कैरेक्टर को इतनी ताकत देती हैं की वो पूरी कहानी के साथ audience को बांध के रखें और खुद से नफ़रत ना होने दे।

फ़िल्म का डायरेक्शन जबरदस्त हैं राम माधवानी, जिन्होंने नीरजा भी बनाई थी, उस फ़िल्म में दिमाग में हर scene के साथ टेंशन बढ़ जाता हैं ना, ठीक वैसा ही कारनामा इधर भी होगा।

हर एक scene कैसे ख़त्म होगा और किस हद तक जा सकता हैं? आप अंदाजा भी नहीं लगा पाओगे।

जैसे ही आपने सोचा कि ये तो हो ही नहीं सकता, ठीक अगले सेकंड वो चीज़ हो जाएगी और आपके होश उड़ जाएंगे।

Best चीज़ जो फ़िल्म के मेकर्स ने की, वो हैं ट्रैलर में सब कुछ छिपा के रखना, आप चाहें तो पूरा ट्रैलर दो बार देख लो, जरा भी hint नहीं मिलेगा की फ़िल्म के अंदर वास्तव में होने क्या वाला हैं?

सारे twist and turns, सरप्राइज के पटाखों की तरह अचानक फूट जाते हैं और फिर अंत में एक सोशल मैसेज छोड़ना जो screen से बाहर निकलकर आपको खुद से सवाल पूछने पर मजबूर कर देगा।

ये होता हैं असली सिनेमा जो फ़िल्मी जिंदगी के साथ साथ वास्तविक जिंदगी में भी असर डाल दे।

ये भी पढ़ें:- Bob Biswas Movie Hindi Review: अभिषेक बच्चन

Climax में अमित त्रिवेदी की आवाज में खोया पाया सुनके आप फ़िल्म की यादों को जल्दी भुला नहीं पाओगे।

धमाका सिर्फ़ दिमाग में नहीं आपके दिल में भी होगा।

हाँ बस एक चीज जरूर बताना चाहूँगा, ओरिजनल फ़िल्म के जैसे का तैसा छापने की जगह अगर डायरेक्टर साहब कहानी में थोड़ा improvise करते और फ़िल्म के अंदर रिपोर्टर्स के साथ साथ पब्लिक का रिएक्शन भी दिखाया जाता तो सच में बड़ा धमाका हो जाता बॉस।

नकल के लिए अक्ल तो लगा ली लेकिन कुछ नया जोड़ने की हिम्मत, वहाँ चूक गए।

Dhamaka Movie Review: एक्टिंग और परफॉर्मेंस

और अब बात उनकी जो पूरी फ़िल्म को अपने कंधों पर लेकर घूम रहें हैं, कार्तिक आर्यन – एक कमाल की परफॉर्मेंस।

एक news एंकर के कैरेक्टर को पकड़ना, बाहर से पत्थर अंदर से नरम, मजा आ गया गुरु।

ये भी पढ़ें:- 83 Movie Review: भारत की पहली वर्ल्डकप ट्रॉफी की कहानी

इनकी एक्टिंग हैं धोखे वाली, मतलब कभी कभी ये खुद पे शक करने को मजबूर कर देंगे।

कहीं यही तो मास्टरमाइंड नहीं हैं तो कभी ये खुद शिकार जैसे लगते हैं जिसके पीछे शैतान पड़ा हुआ हैं।

इनके अलावा अमृता सुभाष ने भी अपनी बेहतरीन एक्टिंग से सभी का दिल जीता।

Dhamaka Movie Review: रेटिंग

तो यार मेरी तरफ़ से धमाका फ़िल्म को 5 में से 4 स्टार्स।

एक स्टार मीडिया वर्सेज़ रियलिटी, इस कॉन्सेप्ट को फोकस में डालने के लिए।

एक स्टार unpredictable और तेज रफ़्तार से भागने वाली कहानी के लिए जो दिमाग को उलझा के रखती हैं।

एक स्टार, कार्तिक आर्यन लीड कैरेक्टर के तौर पर और सपोर्टिंग में अमृता सुभाष, दोनों की कमाल दमदार परफॉर्मेंस के लिए।

और एक स्टार बिना वक्त ख़राब किये सीधा मुद्दे पे आकर फ़िल्म को जबरदस्ती ढाई घण्टे खींचने की जगह सिर्फ 1 घण्टे 40 मिनट में पूरा मनोरंजन करने वाले कसे हुए डायरेक्शन के लिए।

ये भी पढ़ें:- Pushpa Movie Review: एक फ़िल्म पड़ी पूरे बॉलीवुड पर भारी

बात करूँ नेगेटिव्ज की तो आधा स्टार कटेगा कहानी को जैसे का त्यों छापने के लिए बिना कुछ improvise किए। इसने थोड़ा disappoint किया।

और आधा स्टार कटेगा छोटी छोटी डिटेल्स को नजरअंदाज मारकर पब्लिक के imagination पर छोड़े गए काफ़ी सारे scenes के लिए।

देखो बॉस, अब Wednesday जैसी कम्प्लीट फ़िल्म वाली feeling धमाका से तो महसूस नहीं होगी आपको।

लेकिन मेरी बात मानो तो इन छोटी मोटी चीजों पर ध्यान मत दो, रिमोट उठाओ और नेटफ्लिक्स चालू करके इस धमाके का हिस्सा बन जाओ।

मजा आएगा गुरु, इस बात की गारंटी मेरी।

इस हफ़्ते ओर क्या देखें?

Chhorii – एक हॉरर फ़िल्म जो आपके दिमाग में घुसने को तैयार हैं, अमेज़ॉन प्राइम पर मौजूद इस फ़िल्म को अपनी watchlist में जरूर शामिल करें।

Jai Bhim – अगर बायोपिक देखने का मूड हो रहा हैं तो जय भीम को देखें, एक ऐसी कहानी जो आपको अंदर तक हिला कर रख देगी।

Tadap – अहान शेट्टी के डेब्यू फ़िल्म को अपनी watchlist में शामिल करें क्योंकि उन्होंने इसमें वाकई कमाल का काम किया हैं। रीमेक हैं पर मज़ेदार हैं।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply