Human वेब सीरीज़ रिव्यू: डिज़्नी प्लस हॉटस्टार स्पेशल सीरीज़

जब लॉकडाउन लगा तो हर कोई अपने भविष्य को लेकर चिंतित होने लगा। हर कोई गूगल पर नए नए तरीके खोजने लगा पैसे कमाने के।

कुछ लोगों ने नए तरीकों पर काम करना शुरू भी किया लेकिन वहीं कुछ लोगों को कुछ समझ ही नहीं आया।

लेकिन एक तरीका हैं जो काफी पुराना हैं और हमेशा से चला आ रहा हैं – अपने आप पर दवाइयों का ट्रायल्स करवाना।

अब इसका क्या मतलब हैं? कैसे होता? इससे पैसे कैसे मिलते हैं? ये सब हम जानेंगे इस हॉटस्टार स्पेशल ह्यूमन वेब सीरीज़ के रिव्यू में।

10 एपिसोड लम्बी इस वेब सीरीज़ को 14 जनवरी के दिन हॉटस्टार पर रिलीज़ कर दिया गया हैं और अब आप इसे देख सकतें हैं।

इस सीरीज़ में अहम किरदार निभाया हैं शेफ़ाली शाह और कीर्ति कुल्हारी ने।

ह्यूमन सीरीज़ में जहाँ शेफ़ाली शाह डॉक्टर गौरी नाथ का कैरेक्टर प्ले कर रहीं हैं जो कि मंथन नाम के एक बड़े हॉस्पिटल की मालकिन हैं वहीं कीर्ति कुल्हारी ने डॉक्टर सायरा सबरवाल का कैरेक्टर प्ले किया हैं।

आदित्य श्रीवास्तव जिन्हें आपने CID में देखा होगा, इस सीरीज़ में अशोक वैद्य का कैरेक्टर प्ले कर रहें हैं जो कि एक फार्मा कम्पनी के मालिक हैं।

इसके अलावा इंद्रनील सेनगुप्ता और राम कपूर भी इस सीरीज़ में अहम किरदार प्ले करते हुए नजर आएंगे।

इस सीरीज़ के डायरेक्टर हैं विपुल शाह जो नमस्ते लंदन, लंदन ड्रीम्स, नमस्ते इंग्लैंड जैसी फ़िल्में डायरेक्ट कर चुके हैं, साथ ही इस सीरीज़ की लीड कैरेक्टर शेफ़ाली शाह के पति भी हैं।

तो चलिए बिना वक्त गवाएं Human वेब सीरीज़ की कहानी से इस रिव्यू की शुरुआत करते हैं।

Human Web Series Review in Hindi

human web series review in hindi

कहानी

ह्यूमन एक ऐसे मुद्दे पर बनी सीरीज़ हैं जहाँ ना सिर्फ़ पैसे का खेल हैं बल्कि यहाँ किसी की जिंदगी की भी कोई कीमत नहीं।

मंथन, एक बड़ा हॉस्पिटल जहाँ हर रोज हज़ारों की सँख्या में लोग अपना इलाज़ करवाने आते हैं उनसें, जिन्हें हम भगवान का दूसरा रूप मानते हैं – डॉक्टर।

इस रिव्यू के शुरुआत में मैंने आपसे पैसे कमाने के एक तरीके के बारे में जिक्र किया था, पहले उसे थोड़ा समझ लेते हैं।

जब भी कोई फार्मा कम्पनी यानी दवाईयाँ बनाने वाली कम्पनी किसी दवाई को बनाती हैं तो उसे सबसे पहले ट्राई किया जाता हैं, उसकी जांच की जाती हैं और जब सब कुछ परफेक्ट होता हैं तभी उसे बाज़ार में बेचा जाता हैं।

ये भी पढ़ें:- Matsya Kaand वेब सीरीज़ रिव्यू: चोर, पुलिस और महाभारत

इस जाँच के कुछ लेवल्स होते हैं जहाँ इसका ट्रायल जानवरों से लेकर इंसानों पर भी किया जाता हैं।

अब जानवर तो अपने ऊपर हो रहें ट्रायल्स की परमिशन नहीं दे सकतें लेकिन इंसान ये कर सकतें हैं।

और जब भी कोई कम्पनी अपनी दवाई का ट्रायल करती हैं किसी इंसान पर, तो सिर्फ उसकी मर्जी से – और बदले में उसे पैसे दिए जाते हैं।

तो ये होती हैं एक प्रोसेस जिससे गुजरने के बाद ही कोई दवाई बाज़ार में बिकती हैं।

इस सीरीज़ में भी हमें यहीं सब देखने को मिलेगा। वायु फार्मा नाम की ऐसी ही एक दवाई बनाने वाली कम्पनी हैं जिसनें एक दवाई बनाई हैं जो दिल के मरीजों के लिए एक वरदान हैं – ऐसा वो लोग कहते हैं।

और ज़ाहिर सी बात हैं कि इस दवाई के ट्रायल्स के लिए भी लोगों की जरूरत पड़ेगी।

एक गरीब को क्या चाहिए – पैसे, और जब सिर्फ एक इंजेक्शन लगवाने के 10 हज़ार रुपये मिल रहें हो तो इससे बेहतर उनके लिए ओर क्या हो सकता हैं?

आखिर उन्हें तो पता ही नहीं हैं की उनके साथ वास्तव में हो क्या रहा हैं?

ये भी पढ़ें:- Campus Diaries MX Player वेब सीरीज़ रिव्यू: हर्ष बेनीवाल, ऋत्विक साहोरे

इन लोगों का ट्रायल्स होता हैं मंथन हॉस्पिटल में।

सब कुछ सही चल रहा होता हैं लेकिन बात तब बिगड़ती हैं जब मंथन में ट्रायल्स किये गए लोगों की तबियत खराब होने लगती हैं, और यहाँ तक कि कुछ लोगों की मौत भी हो जाती हैं।

डॉक्टर सायरा सबरवाल, मंथन में काम करती हैं, एक जिम्मेदार डॉक्टर हैं और ईमानदार भी।

डॉक्टर सायरा के इस हॉस्पिटल में काम करने के दो कारण हैं – पहला तो ये की डॉक्टर गौरी नाथ डॉक्टर सायरा सबरवाल की मेंटर रह चुकी हैं और दूसरा कारण काफी दिलचस्प हैं जिसका पता आपको ह्यूमन वेब सीरीज़ को देखकर ही लगाना चाहिए।

अब बात ये हैं कि आख़िर इसमें अलग क्या हैं? हर साल हज़ारों ऐसे ट्रायल्स चलते हैं और ये गलत कैसे हैं?

इसका जवाब हैं ये कि जिस दवाई का ट्रायल्स भारत में किया जा रहा हैं वो बाकी दुनियाँ में बैन की जा चुकी हैं यानी कि यहाँ किसी दवाई का नहीं बल्कि एक जहर का ट्रायल किया जा रहा हैं।

इस गैरकानूनी ट्रायल का क्या होगा? क्या उन लोगों को इंसाफ़ मिलेगा जिन्हें इस ट्रायल में शामिल किया गया था? डॉक्टर सायरा सबरवाल और डॉक्टर गौरी नाथ, क्या ये दोनों भी इस ट्रायल में शामिल थी?

ये भी पढ़ें:-

हॉटस्टार पर रिलीज़ हुई ह्यूमन वेब सीरीज़ इस सवाल का जवाब हैं।

एक्टिंग और परफॉर्मेंस

सीरीज़ के लीड कैरेक्टर्स डॉक्टर गौरी नाथ और डॉक्टर सायरा सबरवाल की परफॉर्मेंस आपको इस सीरीज़ में बाँधे रखेगी।

human web series star cast

अगर आप इन दोनों की परफॉर्मेंस पहले देख चुके हैं तो ज़ाहिर तौर पर आपको इनसे बेहतर परफॉर्मेंस की उम्मीद होगी और ये आपको निराश भी नहीं करेंगी।

आदित्य श्रीवास्तव – जो इस सीरीज़ में फार्मा कम्पनी के मालिक हैं उनकी परफॉर्मेंस भी सीरीज़ का लेवल ऊपर करती हैं।

ह्यूमन सीरीज़ में एक लंबी चौड़ी स्टार कास्ट हैं जहाँ हर कोई अपना 100 प्रतिशत देने की कोशिश कर रहा हैं।

संक्षेप में अगर कहूँ तो एक्टिंग और परफॉर्मेंस में यहाँ अच्छा काम हुआ हैं।

म्यूजिक

किसी भी फ़िल्म या सीरीज़ में उसका म्यूजिक बेहद अहम रोल अदा करता हैं।

ह्यूमन सीरीज़ का बैकग्राउंड म्यूजिक वाकई बेहतरीन हैं।

आप जब भी कोई सीन देख रहें हो, कोई कैरेक्टर डायलॉग बोल रहा हैं तो उस वक्त जो बैकग्राउंड म्यूजिक बज रहा होता हैं वो उस सीन को ओर ज्यादा इंटेन्स बना देता हैं।

रेटिंग

तो यार मेरी तरफ से ह्यूमन वेब सीरीज़ को 5 में से 2 स्टार्स मिलते हैं।

एक स्टार उस मुद्दे के लिए जो इस सीरीज़ में दिखाया गया हैं। उम्मीद हैं लोग इसे देखकर जागरूक होंगे और बिना सोचे समझे सिर्फ पैसों के लिए इस तरह की हरकत करने से बचेंगे।

दूसरा स्टार एक्टिंग और परफॉर्मेंस के लिए, जो इस सीरीज़ के कलाकारों ने की हैं। इस सीरीज़ को देखने का ये एक सबसे बड़ा कारण हैं।

जबकि अगर नेगेटिव्ज की बात करूँ तो एक स्टार कटेगा उस राईटिंग के लिए जिसमें सिर्फ हॉस्पिटल, ट्रायल्स, डॉक्टर्स के सीन्स दिखाए गए हैं।

ये भी पढ़ें:- Aranyak Web Series Review: नेटफ्लिक्स का असुर

जिन लोगों पर ट्रायल किया गया उनकी ज़िंदगी को ओर गहराई से दिखाने की जरूरत थी जिससे ऑडिएंस का इस सीरीज़ से एक इमोशनल लगाव हो जाता, जिसकी मुझे कमी लगी।

एक स्टार कटेगा सीरीज़ की लंबाई की, 10 एपिसोड बना दिये एक छोटी सी कहानी के लिए, एपिसोड्स की संख्या बढ़ाने के चक्कर में जबरदस्ती इसकी कहानी को लम्बा खींच दिया गया।

इस सीरीज़ को 7 एपिसोड्स में भी बनाया जा सकता था, जिससे ये छोटी और बेहतर बनती।

जबकि एक स्टार कटेगा उस डायरेक्शन के लिए जो हमें ये समझा पाने में विफल रहा कि आखिर इस सीरीज़ का उद्देश्य क्या था?

ह्यूमन सीरीज़ को किस आधार पर बनाया गया और इसका महत्वपूर्ण मुद्दा क्या था? इसको समझा पाने में विपुल शाह विफ़ल रहें।

तो बस, ये था डिज़्नी प्लस हॉटस्टार स्पेशल ह्यूमन वेब सीरीज़ का रिव्यू, मुझे उम्मीद हैं की आप जिस उम्मीद से इस रिव्यू को पढ़ने आये थे वो पूरी हुई होगी और मैंने आपको बिना स्पॉइलर दिए इसका अच्छे ढंग से रिव्यू किया होगा।

वैसे सीरीज़ की रेटिंग 18+ हैं क्योंकि इसमें कुछ सीन्स ऐसे हैं जिन्हें आप शायद अपनी फैमिली के सामने देखने में असहज हो जाओ, तो इसे अकेले देखना एक अच्छा डिसीजन साबित हो सकता हैं मेरे दोस्त।

ये उन वेब सीरीज़ जैसी हैं जिसे अगर देखें तो आपको कुछ खास हासिल नहीं होगा और अगर नहीं देखेंगे तो बुरा भी नहीं लगेगा।

बाकी अगर आपने यह सीरीज़ अभी तक नहीं देखी तो क्या आप इसे देखेंगे? और अगर देख ली तो आपके विचार क्या हैं इसे लेकर?

नीचे कॉमेंट बॉक्स खाली पड़ा हैं, अपने विचार जरूर शेयर कीजिएगा।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply