Matsya Kaand वेब सीरीज़ रिव्यू: चोर, पुलिस और महाभारत

चोरी करना बुरी बात हैं। बचपन में हर कोई बताता हैं लेकिन सच्चाई ये हैं कि चोरी वाले किस्से सुनने में मजा बड़ा आता हैं।

अंत में चोर पकड़ा गया या नहीं, इस सवाल का जवाब मिले बिना नींद नहीं आती।

और फिर जब इसे फ़िल्म की शक़्ल दे दी जाए तो भईया बॉक्स ऑफिस पर धमाका मच जाता हैं जैसे धूम सीरीज़ – जिसने कमाई के सारे रेकॉर्ड्स तोड़ दिए।

तो आज फिर से अपने अंदर छुपे बैठे शैतान बच्चे को बाहर निकालिए क्योंकि एक मजेदार कहानी आपका इंतज़ार कर रहीं हैं वो भी एकदम फ्री।

मतलब चोरी सिर्फ वेब सीरीज़ में होगी, आपके पैसे सुरक्षित हैं।

मत्स्या कांड, MX Player का नया शो, ये बाहर से जितना देखा देखा लगता हैं, अलग से उतना ही अलग और फ्रेश हैं।

इस शो के लीड कैरेक्टर्स हैं रवि दुबे जो मत्स्या का कैरेक्टर प्ले कर रहें हैं जबकि रवि किशन ने तेजराज सिंह का रोल प्ले किया हैं।

वहीं पीयूष मिश्रा आनंद पंडित बनकर पूरे शो को अपने इशारों पर नचा रहें हैं।

इसके अलावा राज शर्मा, मधुर मित्तल और जोया अफ़रोज़ भी मुख्य भूमिका में हैं।

मत्स्या कांड को 18 नवम्बर 2021 से MX Player पर स्ट्रिमिंग के लिए उपलब्ध कर दिया गया हैं, जिसे आप बिना एक भी पैसा दिए स्ट्रीम कर सकतें हैं।

Matsya Kaand Web Series Review in Hindi

matsya kaand web series review hindi

कहानी

कहानी चोरी की हैं लेकिन अपना हीरो चोर बिल्कुल नहीं हैं।

अपना हीरो हैं मत्स्या, जो फ़िलहाल जेल के अंदर हैं क्योंकि इन्होंने एक पेट्रोल पंप को फूँक डाला था, ऐसा क्यों किया था? वो आप पता लगाना।

अब इनका जेल से बाहर निकलने का रास्ता हो चुका हैं एकदम बन्द।

लेकिन जेल के राजा हैं पंडित जी – जो कहने के लिए तो क्रिमिनल हैं – खतरनाक, जानलेवा, लेकिन दिमाग इनका चलता हैं चाचा चौधरी से भी तेज।

बस यहाँ से शुरुआत होती हैं गुरु चेले के नए रिश्ते की, जिसमें पंडित जी मत्स्या को महाभारत की कहानी सुनाते हुए खुद की जिंदगी में मिलने वाली हार को जीत में बदलने का रास्ता दिखाते हैं।

बस पंडित जी की एक छोटी सी शर्त हैं – कांड चाहे कितना भी बड़ा हो लेकिन मार धाड़ और खून खराबा बिल्कुल भी नहीं।

शिकार को गोली मारनी हैं तो दिमाग की बंदूक से मारो, शोर भी नहीं मचेगा और कानून भी नहीं टूटेगा।

पुलिस के हाथ चाहें कितने भी लम्बे क्यों ना हो, सबूत नहीं तो जेल नहीं।

तो बस पुराने मत्स्या को मारकर एक नए आर्टिस्ट का जन्म होता हैं जो रूप बदलने में एक्सपर्ट हैं।

चेहरे की बनावट से लेकर आवाज की गहराई, एक ही बन्दे के शरीर में अनगिनत लोग रहने लगते हैं।

देखों सीधी सिंपल बात हैं, शो की कहानी वहीं पुरानी हैं। हीरो अपने मुख्य विलेन तक पहुँचने के लिए रास्ते में कई चोरों से चोरी करके अंत में अपनी व्यक्तिगत दुश्मनी का हिसाब बराबर करेगा।

लेकिन कहानी सुनाने का तरीका, वो काफी नया हैं।

ये भी पढ़ें:- Campus Diaries MX Player वेब सीरीज़ रिव्यू: हर्ष बेनीवाल, ऋत्विक साहोरे

स्पेशली जो महाभारत से जोड़कर मत्स्या कांड को एक युद्ध वाली शक्ल दी गयी हैं, वो चीज अंत तक दिमाग को उलझाकर रखती हैं।

सबसे बढ़िया हैं ये हाथ पैर की ढिशुम ढिशुम को दिमाग की चालाकी में बदलना, कोई मार धाड़ नहीं कोई फ़ालतू डायलॉग-बाजी नहीं।

दिमाग से लोगों को लूटना, वो भी इतनी सफ़ाई से की पब्लिक भी हैरान हो जाए।

स्पेशली जो कांड दिखाए गए हैं इस शो में, वो अलग तरीके के हैं, जिनके बारें में इससे पहले कहीं भी सुना देखा नहीं होगा आपने।

जैसे कि मैच फिक्सिंग हम सब जानते हैं लेकिन एक पूरे शहर को नए मैच की जगह पुराने मैचों को आपस में जोड़कर एक नकली मैच दिखाना।

और हर गेंद पर सट्टा लगाके लाखों करोड़ों कमाना, इसको बोलते हैं चालाकी।

पीयूष मिश्रा का जो नैरेशन हैं, जिस तरह से वो मत्स्या की ज़िंदगी को महाभारत के अलग अलग कैरेक्टर से जोड़कर हर समस्या का समाधान करते हैं, वो इस शो में लॉजिक और डिटेल्स दोनों का ध्यान रखता हैं।

और पीयूष मिश्रा की आवाज गैंग्स ऑफ वासेपुर की यादें ताजा कर देती हैं।

ये भी पढ़ें:-

लास्ट में फिर जब हीरो के सामने विलेन, उससे दुगुनी ताकत में खड़ा हो जाता हैं शो का लेवल अपने आप ऊपर चला जाता हैं।

रवि किशन, एक जबरदस्त एक्टर हैं।

दिल में उत्सुकता महसूस होनी चाहिए उस सीन के लिए जब फाइनली इन दोनों का आमना सामना होगा।

कौन जीतेगा कौन हारेगा? इस सवाल के जवाब का अंदाजा लगा पाना मुश्किल हो जाता हैं।

वो कहावत तो सुनी होगी ना आपने, छोटा पैकेट बड़ा धमाका। बस ये वेब सीरीज़ उसका परफेक्ट उदाहरण हैं।

आप देखना शुरू करोगे ज़ीरो उम्मीद के साथ और फाइनल एपिसोड तक पहुँचते पहुँचते दिमाग हवा में उड़ने लगेगा।

एक्टिंग और परफॉर्मेंस

एक्टिंग में रवि दुबे ने कमाल किया हैं। टीवी इंडस्ट्री में इतना टैलेंट देखकर सच में होश उड़ गए हैं बॉस।

पहले ब्रोकन बट ब्यूटीफुल में सिद्धार्थ शुक्ला और अब मत्स्या कांड में रवि दुबे।

matsya kaand web series review - cast

सास बहू के अलावा टीवी सीरियल्स में बहुत कुछ हैं जिससे हम लोग अभी तक अछूते रहें हैं।

मत्स्या के तौर पर रवि अपने कैरेक्टर के साथ पूरा न्याय करते हैं – चोरी से लेकर बदला, दोनों चीजों में इमोशन्स हैं, फ़ीलिंग्स हैं।

और हम लोग ऑडिएंस के तौर पर उनसें जुड़ जाते हैं।

रेटिंग

तो भईया मेरी तरफ से मत्स्या कांड को 5 में से 3.5 स्टार्स।

एक स्टार तो कमाल की राईटिंग के लिए, सस्पेंस ट्विस्ट सब कुछ मिलेगा।

एक स्टार मार धाड़ की जगह दिमाग को सेंटर में डालकर चोरी के रास्ते बदला पूरा करने वाला जबरदस्त कॉन्सेप्ट, उसके लिए।

एक स्टार मुख्य कहानी को महाभारत के बराबर चलाकर सही गलत के बीच का फ़र्क समझाते हुए, चोर की चोरी को जस्टिफाई करना, वो भी पीयूष सर की आवाज में, ये आईडिया मजेदार हैं गुरु।

और हाफ़ स्टार तो एक्टिंग परफॉर्मेंस का बनता ही हैं।

ये भी पढ़ें:- Aranyak Web Series Review: नेटफ्लिक्स का असुर

लीड कैरेक्टर्स के तौर पर रवि दुबे और रवि किशन और बाकी लंबी चौड़ी सपोर्टिंग कास्ट, हर कोई अपने रोल में एकदम फिट हैं बॉस।

बात करूँ नेगेटिव्ज की, तो एक स्टार कटेगा काफी सारी जगह पे क्रिएटिव फ़्रीडम की आड़ में छुपकर बिना लॉजिक वाले सीन्स घुसाने के लिए।

और हाफ़ स्टार क्लाइमेक्स को थोड़ा जल्दी में लपेटकर छोटी छोटी डिटेल्स को नजरअंदाज करने के लिए, कुछ सवाल छूट गए हैं जिनका जवाब मिलना चाहिए था।

बाकी MX Player के इस ओरिजनल मत्स्या कांड वेब सीरीज़ के बारे में आप क्या सोचते हैं? नीचे कमेंट्स में जरूर बताएं।

और हाँ, अगर आपने इस शो को देख लिया हैं तो अपना रिव्यू कमेंट्स में शेयर करना ना भूलें दोस्त।

हमसे वार्तालाप करनी हो या शिकायत, उसके लिए हम आपको फ़ेसबुक पर भी मिल जाएंगे।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply