Pushpa 2 The Rule Movie Story Explained in Hindi

कुछ फ़िल्में होती हैं जो सिर्फ थिएटर तक लिमिटेड नहीं होती, वो लोगों की सोच से लड़कर सारी प्रॉब्लम्स का सामना करके वर्ल्ड रिकॉर्ड बना देती हैं।

इतिहास में इनका नाम गोल्डन अक्षरों में लिखा जाएगा।

आप जितना पीछे खींचोगे, ये उतना आगे बढ़ेगा, चैलेंज कितने भी हो, विनर हमेशा एक नाम, पुष्पा।

देखों, पहले पार्ट का टाइटल था Pushpa – The Rise, जिसनें फ़िल्म देखी, वो समझ गया होगा की ये सिर्फ पुष्पा की मामूली से नोकर से पूरे शहर का मालिक बनने की यात्रा दिखाती हैं।

लेकिन अब क्या? फ़िल्म का दूसरा पार्ट तो पहले ही घोषित हो चुका हैं, तो उसकी कहानी क्या होगी?

जवाब एक छोटे से सवाल में छुपा हुआ हैं। Pushpa हीरो हैं या विलेन?

सुनने में आसान लगता हैं लेकिन ये पहेली काफी टेढ़ी मेढ़ी मुश्किल हैं, और इसके आस पास ही Pushpa के दूसरे पार्ट को लिखा जाएगा।

फ़िल्म का टाइटल रखा गया हैं Pushpa – The Rule, मतलब पहले पार्ट में अल्लु अर्जुन सिर्फ राजा की गद्दी तक पहुँचे हैं, अभी उसपे बैठना बाकी हैं और बैठके पूरी दुनियाँ को चलाना बाकी हैं।

अब यहाँ आती हैं क्रेजी फैंस की अलग अलग कहानियाँ, जितने मुहँ, उतनी बातें।

कोई कहता हैं Pushpa जीतेगा तो कोई Pushpa मरेगा बोलकर फ़िल्म के दूसरे पार्ट को ट्रेजेडी में बदल देता हैं।

लेकिन आप निश्चिंत रहिए क्योंकि फ़िल्मी बातचीत हैं ना।

मैंने आपके लिए फ़िल्म को दो बार बड़े ही ध्यान से देखकर आपके लिए कुल 8 पॉइंट्स ढूंढें हैं जो मेरे हिसाब से Pushpa 2 की स्टोरीलाइन में जरूर देखने को मिलेंगे।

Pushpa 2 The Rule Movie Story Explained

pushpa 2 the rule movie story explained in hindi

1. दोस्ती का ट्विस्ट

आपको वो भाईसाहब तो याद ही होंगे जिन्होंने Pushpa को देखकर अपना मालिक ही बदल दिया था और बाद में धीरे धीरे Pushpa का राइट हैंड बन गए।

देखों, काफ़ी चांसेज हैं कि दूसरे पार्ट में बेस्ट फ्रेंड ही सबसे बड़ा दुश्मन बन जाएं।

इनके मासूम चेहरे पर मत जाओ। इनकी एक बेक स्टोरी भी हैं, जिसकी वजह से इनके हाथ की अंगुली कटी हुई हैं, याद तो होगा ना आपको?

अब हाथ की उंगली मजाक में तो कटी नहीं होगी, ये बन्दा कोई सीक्रेट एजेंट हो सकता हैं या फिर साइलेंट किलर।

जिसका काम हैं, सही मौका मिलते ही Pushpa को ठिकाने लगाना, लेकिन किसके इशारे पे, वो अभी पता नही।

बस यहीं से निकलता हैं दूसरा और सबसे इंट्रेस्टिंग पॉइंट जो Pushpa 2 की कहानी को हिलाकर रख सकता हैं।

ये भी पढ़ें:

2 डार्क सीक्रेट

Pushpa गैंगस्टर नहीं बल्कि पुलिसवाला हैं। चोंक गए, रुको, रुको… इसमें भी में लॉजिक दूँगा की आखिर ऐसा क्यों हो सकता हैं?

Pushpa अंडरकवर ऑपरेशन में ड्यूटी कर रहें हैं और इनका टारगेट हैं लाल चंदन की तस्करी करने वाली गैंग्स को जड़ से ख़त्म करना।

अब वो कैसे होगा? सबसे बेस्ट, उनमें से एक बनने का नाटक कर लो।

पहले श्रीनू और कोंडा रेड्डी को एक दूसरे से अलग करवाया, बाद में दोनों गैंग्स के महत्वपूर्ण मेंबर्स को जान से भी मरवा दिया।

धीरे धीरे तस्करों की गिनती जीरो हो जाएगी।

ये इसलिए भी काफी सम्भव हैं क्योंकि Pushpa खुद इन लोगों से मिलता हैं वो भी अचानक से, कोई भी अतीत का कनेक्शन नहीं, कुछ नहीं।

और तस्करी का माल पुलिस की नज़रों से बचाकर एक शहर से दूसरे शहर ले जाने के चालक तरीके खुद पुलिस से बढ़िया ओर कौन जानता होगा?

मतलब दाल में कुछ तो काला हैं मेरे दोस्त।

ये भी पढ़ें:-

3. जापान कनेक्शन

फ़िल्म के शुरुआत में एक एनिमेशन प्ले होता हैं, जिसमें Pushpa की कहानी रिवर्स में सुनाई जाती हैं।

“ये कहानी की शुरुआत नहीं क्लाइमेक्स हैं” कुछ ऐसा ही डायलॉग था, याद आया कुछ?

एक गिटार, जो जापान में मिलता हैं और काफी महंगा आता हैं क्योंकि उसे लाल चंदन की लकड़ी से बनाया जाता हैं।

और इस लकड़ी को भारत से बाहर ले जाने का काम करते हैं अपने Pushpa भईया।

मतलब दूसरे पार्ट में Pushpa की कहानी नेशनल नहीं बल्कि इंटरनेशनल जाने वाली हैं।

इसका हिंट भी दिया गया था Pushpa के पहले पार्ट में, जब Pushpa चेन्नई में माल मुरुगन को सीधा बेचने जाता हैं।

यहाँ मुरुगन के चेहरे को तो दिखाया गया लेकिन मुरुगन का बोस कौन हैं? वो नहीं दिखाया गया।

बस, एक आदमी छतरी लेकर मुहँ छिपाए खड़ा दिखाया जाता हैं।

ये उस सिंडिकेट का बोस हैं जिसमें Pushpa बस एक छोटा सा मेम्बर हैं।

और इसी के द्वारा फ़िल्म का कनेक्शन जापान से जोड़ा जाएगा।

ये भी पढ़ें:- 40 Upcoming Indian Movies of 2022: जिनका सबको बेसब्री से इंतजार हैं!

4. श्रीवल्ली की मौत

Pushpa की जिंदगी में दो लोग सबसे ज्यादा मायने रखते हैं, एक पुष्पा की माँ और दूसरी श्रीवल्ली, जिसके लिए पुष्पा ने खुद अपनी जिंदगी को ख़तरे में डाल दिया था रेड्डी ब्रदर्स से पंगा लेके।

लेकिन वो सिर्फ एक छोटी सी झलक थी, अगर कहानी को सच में फ्लॉवर से फ़ायर बनना हैं तो श्रीवल्ली का मरना जरूरी हैं।

और ये होगा भी, जिसकी वजह से पुष्पा खुद अपने सिंडिकेट के ख़िलाफ़ खड़ा हो जाएगा।

स्पेशली जब जोली रेड्डी की वापसी होगी तो उसके लिए पुष्पा से सबसे बड़ा बदला होगा श्रीवल्ली की जान लेना।

5. पुष्पा का डाउनफॉल

अब देखों, जब श्रीवल्ली जाएगी तो पुष्पा का दिल उसके दिमाग को कण्ट्रोल कर लेगा, बस यहाँ से पैसा, पॉवर गया सब भाड़ में और पुष्पा की जिंदगी का सिर्फ एक ही मिशन होगा, सिंडिकेट की बर्बादी।

लेकिन दुश्मनों की लिस्ट काफी लंबी हो जाएगी। रेड्डी ब्रदर्स, जिनमें से एक के पास दिमाग तो दूसरे के पास पागलपन।

फिर श्रीनू और उसकी साइको बीवी, इन लोगों को भी अपने मरे हुए भाई का बदला चाहिए।

और एक अपने पॉलिटिशियन सर, जो इस पूरे खेल के मास्टरमाइंड हैं।

वो दूसरे पार्ट में पुष्पा की जिंदगी के सबसे बड़े विलेन बन जाएंगे क्योंकि इनके लिए पैसा और पॉवर ही सब कुछ हैं।

अब इन सबसे तो पुष्पा लड़ भी लेता और आसानी से जीत भी जाता, अगर कहानी में इस छठवें पॉइंट की एंट्री ना होती, जो पुष्पा की जिंदगी को नर्क बना देगा।

ये भी पढ़ें:- 10 Highest Rated Indian Movies on IMDB 2021

6. शेखावत सर

हरियाणा से ट्रांसफर हुए आईपीएस मिस्टर शेखावत को भूल तो नहीं गए आप।

सिर्फ 15 मिनट में पूरे 2 घण्टे की फ़िल्म को डोमिनेट कर दिया था इन्होंने।

लेकिन क्लाइमेक्स में पुष्पा के हाथों बेइज्जती ने इनका पूरा मजाक बना दिया।

अब देखों, भँवर सिंह शेखावत एक भ्रष्टाचारी पुलिस ऑफ़िसर हैं, ये जरूर दिखाया गया लेकिन इनको पैसों का बिल्कुल भी लालच नहीं हैं।

ये सिर्फ क्रिमिनल्स की गिनती कम करना चाहते हैं कानूनी या गैरकानूनी तरीके से।

लेकिन ये ऐसे हैं क्यों? इनकी बेकस्टोरी क्या हैं? पुलिस डिपार्टमेंट में लोग इनसे इतना क्यों डरते हैं?

उसका सीक्रेट खुलेगा Pushpa Part 2 में।

जैसे पुष्पा का एक पास्ट हैं, वैसे ही पुलिस सर की कोई तो छुपी हुई कहानी हैं जिसकी वजह से ये पुलिस की वर्दी में गुंडों वाले काम कर रहें हैं।

बस इस बात से निकलता हैं अगला पॉइंट…

7. पुष्पा का अतीत

जी हाँ, अगर पुष्पा को गिराना हैं तो उसके अतीत को बड़ी ही चालाकी से इस्तेमाल करना होगा।

पुष्पा के रिश्तेदार, Pushpa के पार्ट वन में इनका कैरेक्टर एकदम नेगेटिव दिखाया गया हैं, लेकिन पुष्पा की जिंदगी में इनका वर्तमान सबसे ज्यादा महत्व रखता हैं।

बस यहाँ चलेगा शेखावत सर का दिमाग और पुष्पा के इन्हीं रिश्तेदारों के साथ एक असामान्य सा बॉन्ड बना सकतें हैं।

दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता हैं, बस वहीं वाला।

काफ़ी ज्यादा चांसेज हैं कि पुष्पा की माँ को ब्लैकमेल करके उसके रिश्तेदार पुष्पा के पास आने की कोशिश करें।

ये भी पढ़ें:- Best Bollywood Action Movies

और सही वक़्त आने पर शेखावत सर के इशारे पर पुष्पा को धोखा दिया जाएगा, जिसमें उसकी माँ को सेक्रिफाइज करना पड़ सकता हैं, और यहाँ से पुष्पा हो जाएगा एकदम अकेला।

श्रीवल्ली और माताजी, दोनों ख़त्म, बस यहाँ से शुरूआत होगी आठवें पॉइंट की।

8. बदला

फ़िल्म का सबसे मशहूर डॉयलोग हैं झुकेगा नहीं।

Pushpa Part 2 के क्लाइमेक्स में पुष्पा के पास होंगे 2 साफ सुथरे विकल्प।

पहला, पुलिस और दुश्मन के सामने सरेंडर, चुपचाप क्राइम की दुनियाँ छोड़कर जेल के पीछे चले जाओ, जान तो बच जाएगी।

और दूसरा, फेसऑफ़, एकदम जबरदस्त, लेकिन सबसे बड़ा खतरा ये की सामने वाले सारे दुश्मन बन जाएंगे एक दूसरे के दोस्त और पुष्पा भईया एकदम अकेले, इनके तो दोस्त भी दुश्मन बन सकतें हैं।

पुष्पा के ख़िलाफ़ पुलिस, पॉवर और पॉलिटिक्स।

इसका रिजल्ट क्या होगा? इसका आईडिया हमें दिया गया था, डीएसपी गोविन्द की छुपी हुई वॉर्निंग में।

जो उन्होंने पुष्पा को दी थी, “सब कुछ ख़तम हो जाएगा, सब कुछ बर्बाद, गलत करोगे तो अंत में मरोगे”

अब देखो पुलिस वर्सेज़ क्रिमिनल की लड़ाई में आप भले ही क्रिमिनल को पॉवरफुल दिखा सकतें हो लेकिन विजेता बिल्कुल भी नहीं बना सकतें।

क्योंकि सोशल मैसेज पर बात आ जाती हैं, इसीलिए पुष्पा का हारना जरूरी हैं।

इस वाले पॉइंट को क्लाइमेक्स तक कैसे ले जाना हैं? ये आपको सोचना हैं।

कोई रास्ता ढूँढ सकतें हो जिससे पुष्पा जिंदा बच जाए और सामने वाले सारे हार जाएं तो नीचे कॉमेंट्स में लिख दो।

या फिर आप भी दिल टूटने से डर रहें हैं और पुष्पा का राज हमेशा हमेशा के लिए उसी के साथ ख़त्म हो जाएगा, ये लग रहा है तो कॉमेंट्स में अपना दुःख बांट सकतें हो।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply