Pushpa Movie Review in Hindi: एक फ़िल्म पड़ी पूरे बॉलीवुड पर भारी

एक वक्त था जब साउथ सिनेमा को एंटी फ़िजिक्स, एंटी ग्रेविटी और ना जाने कितने नामों से बुलाकर मारधाड़ वाले एक्शन सीन्स का खूब मजाक बनाया जाता था।

लेकिन फिर सब कुछ बदल गया। कारण, तेलुगु सिनेमा का पॉवरफुल कॉन्टेंट। बाहुबली द गेम चेंजर। जब पूरा बॉलीवुड एक फ़िल्म के आगे सरेंडर, फिनिश, ख़तम।

अब उस सेम चीज़ का दुबारा रिपीट टेलीकास्ट देखने के लिए तैयार हो जाओ। तेलुगु सिनेमा फिर से आ रहीं हैं, वो भी नए माल के साथ, एकदम फ्रेश, एकदम कड़क।

समझने वाले समझ गए होंगे, बात होने वाली हैं Pushpa की। Allu Arjun की मोस्ट अवेटेड एक्शन थ्रिलर फिल्म, जो बॉक्स ऑफिस पर तोड़ फ़ोड़ मचा देगी बॉस।

Pushpa Movie Review in Hindi

Pushpa Movie Review in Hindi: स्टोरी

कहानी स्मगलिंग की हैं। जंगल से कुछ बाहर जा रहा हैं जिसके बदले में पैसा मिलेगा खूब सारा, इतना जो पूरी जिंदगी बदल सकता हैं।

स्मगल हो क्या रहा हैं? लाल चंदन, मान लो एक तरह का सोना जो जमीन पर उगता हैं।

इस जंगल के राजा हैं अपने पुष्पा भईया। इनके इशारे पर जंगल का रास्ता कभी खुलता हैं तो कभी एकदम बन्द।

पुलिस बेचारी पीछा करती रहती हैं और Pushpa का लाल सोना एक शहर से दूसरे शहर। लेकिन राजा के दुश्मन, वो भी खतरनाक, और मज़ेदार बात, इन सभी के चेहरों पर हैं दोस्ती का नक़ाब, बाहर से सुंदर, अंदर से अजगर।

जो मौका मिलते ही Pushpa को काटकर खुद जंगल का राजा बनने की फ़िराक में हैं।

ये भी पढ़ें:- Parampara Season 1 Hotstar Web Series Review: एक पॉलिटिकल ड्रामा

लेकिन इस कहानी में एक तीसरा खिलाड़ी भी हैं जो हाथ पैर से नहीं बल्कि दिमाग से वार करता हैं। और सबसे खतरनाक बात पता हैं क्या? इनके शरीर पर हैं पुलिस की वर्दी।

ताकत और इज्जत, डेडली कॉम्बिनेशन।

अभी मुद्दे की बात, Pushpa फ़िल्म हैं कैसी? एकदम जबरदस्त, खतरनाक। मास सिनेमा जिसको बोलते हैं ना, उसका परफेक्ट उदाहरण हैं ये Pushpa फ़िल्म।

एक एक सीन में एनर्जी फील होती हैं गरमागरम। इस फ़िल्म की कहानी ही इसका एक्स फ़ेक्टर हैं।

एकदम डार्क और सीरियस। धीरे धीरे आपके दिमाग़ को चारों तरफ से लपेटकर अंत में बिल्कुल होश उड़ा देती हैं।

पूरी डिटेलिंग के साथ Pushpa के कैरेक्टर को धीरे धीरे आप तक पहुँचाया जाता हैं।

कौन हैं? कहाँ से आया? आगे कैसे बढ़ा? सारे जवाब एकदम कम्प्लीट तरीके से दिखाए जाते हैं।

3 घण्टे आप दूसरी दुनियाँ में पहुँच जाते हो, जो आप जानते हो कि बिल्कुल नकली हैं लेकिन फ़िल्म की दमदार स्टोरीलाइन Pushpa को लॉजिकल और believable बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ती।

इतने सारे कैरेक्टर्स हैं, और सबके सब एक से बढ़कर एक। सबके साथ एक अजीब सी फ़ीलिंग जुड़ी हुई हैं ईविल, अनप्रेडिक्टेबल और डेंजरस।

कौन क्या क्या कर सकता हैं? कोई आईडिया ही नहीं हैं।

ये भी पढ़ें:- 83 Movie Review: भारत की पहली वर्ल्डकप ट्रॉफी की कहानी

और भईया एक्शन, एकदम टॉप लेवल का, रॉ और नेचुरल। हाथ पैर से मुक्कालात और मुलाकात दोनों।

लेकिन हर एक सीन इतना स्ट्रॉन्ग और पॉवरफुल, जो स्क्रीन के पीछे से थिएटर की एक एक सीट हिला दे।

बीच बीच में रोमांस भी मिलेगा, सब कुछ मारधाड़ ही नहीं हैं। गाने भी हैं, आइटम सॉन्ग भी हैं।

लेकिन सब कुछ कनेक्टेड हैं, कुछ भी फालतू जबरदस्ती नहीं घुसाया गया, जिससे फ़िल्म की पकड़ कमजोर हो जाए।

देखो, पूरा खेल डायरेक्शन का हैं, वरना आज के वक्त में 3 घण्टे थिएटर में ऑडिएंस को बिठाकर रखना, बिल्कुल भी आसान नहीं हैं।

लेकिन यहाँ Pushpa में एक मिनट का भी ब्रेक लेने का मन नहीं करता। डायरेक्टर सुकुमार पहले से ही मन बना चुके हैं की Pushpa को दो भाग में डिवाइड करना हैं।

इसलिए फर्स्ट भाग को इतने इंट्रेस्टिंग तरीके से आगे बढ़ाते हैं कि आप सबकुछ भूलकर सिर्फ ये जानना चाहते हो कि आखिर पुष्पा के साथ होगा क्या?

और अब भईया वो चीज, जिसने Pushpa का लेवल KGF जैसी फ़िल्मों के बराबर पहुँचा दिया, हीरो के टक्कर का विलेन। खतरनाक फेसऑफ़।

ये भी पढ़ें:- Minnal Murali Movie Review: भारत का अपना सुपरहीरो

एक ऐसी आरपार की लड़ाई, जिसमें हीरो जीतेगा या नहीं, कोई गारंटी नहीं। अरे कमाल की बात तो ये हैं कि हीरो कौन हैं ये भी नहीं पता।

Pushpa का जो क्लाइमेक्स हैं ना, वो सच में रोंगटे खड़े करने वाला हैं। इतने ज्यादा इमोशन्स और एनर्जी, शायद ही आजतक किसी फ़िल्म के अंतिम सीन में देखी होगी आपने।

और ये अंत तो हैं ही नहीं, सेकण्ड भाग की शुरुआत हैं।

Pushpa Movie Review in Hindi: एक्टिंग

Allu Arjun, क्या जबरदस्त परफॉर्मेंस हैं भाई। नहीं मतलब सच में, Pushpa को एक हकीकत बना दिया इस बन्दे ने।

Allu Arjun तो हैं ही नहीं फ़िल्म में, वहाँ तो सिर्फ पुष्पा मिलेगा, जिसे डर भी लगता हैं और उसकी बातों पर तालियाँ बजाने का मन भी करता हैं।

एक एक सीन को पूरा जीया हैं इस बन्दे ने। फाइटिंग, रोमांस, कॉमेडी, ट्रेजेडी और यहाँ तक कि डांस, हर एक चीज में टॉप लेवल। इसको बोलते हैं कम्प्लीट एक्टर।

जितनी उम्मीद थी, उससे 100 गुना वापस मिला। ये वो एक्टर नहीं हैं जिनको हीरो बनने के लिए लम्बे चौड़े डॉयलोग्स की जरूरत पड़ती हैं।

इनकी आँखे ही काफी हैं, ऑडियंस के दिल और दिमाग तक अपनी बातें पहुँचाने के लिए।

फहाद फाजिल ज्यादा वक्त के लिए फ़िल्म में हैं नहीं, लेकिन जब ये एंट्री मारते हैं, तो पूरी कहानी सिर्फ इनके इशारों पर नाचती हैं।

Pushpa movie review - fahadh faasil

Allu Arjun को उनकी ही फ़िल्म में चेलेंज करना, फहाद के अलावा कोई दूसरा एक्टर नहीं कर सकता।

पुलिस का कैरेक्टर वो भी एक गुंडे की तरह प्ले करना, इसके लिए जबरदस्त क्रिएटिविटी होनी चाहिए जो फहाद की परफॉर्मेंस में साफ दिखाई देती हैं।

ये विलेन हैं या हीरो, इसका फैसला करना बेहद मुश्किल हैं।

Rashmika अच्छी हैं और कहानी के लिए जरूरी भी हैं। लेकिन पूरी फ़िल्म में कहीं भी ऐसा नहीं लगेगा कि ये कहानी में स्पेशल हैं।

बस पुष्पा की गर्लफ्रैंड बनाके प्रस्तुत किया हैं, बाकी सेकण्ड भाग में इनका रोल शायद थोड़ा और महत्वपूर्ण हो जाये।

हिंदी डबिंग कैसी हैं, वो भी सुन लो। मजा आने वाला हैं मेरे दोस्त, कसम से। हाँ, Allu Arjun की ओरिजिनल आवाज वाला दम और पावर तो नहीं मिलेगा लेकिन श्रेयस तलपड़े ने पूरी कोशिश की हैं Pushpa के लेवल को ऊँचा रखने की।

Pushpa Movie Review in Hindi: दिल की बात

अभी दो चीजें हैं जिनके बारे में बात जरूर करना चाहूंगा में।

पहला तो ये, की मुझे नहीं पता Pushpa फ़िल्म को नीचे गिराने की कोशिश क्यों कि जा रहीं हैं?

फालतू नेगेटिव रिव्यूज़, और झूठ बोलकर कॉन्ट्रोवर्सी क्रिएट करना, बहुत गलत हैं।

अच्छे सिनेमा को ऐसे बर्बाद नहीं होने देना चाहिए।

ये भी पढ़ें:- Atrangi Re Movie Review: धनुष की लाजवाब ऐक्टिंग का तड़का

दूसरी बात, मेरे जैसे वो लोग जो फ़िल्म का ओरिजनल तेलुगू वर्ज़न देखना चाहते हैं उनको इंग्लिश सबटाइटल्स ही नहीं मिल रहें फ़िल्म में।

अब ये क्यों किया जा रहा हैं? मुझे नहीं पता, जानबूझकर या गलती से। लेकिन अल्लु अर्जुन के टेलेंट के साथ पूरा अन्याय हैं ये।

केजीएफ, बाहुबली जैसी फ़िल्म्स को चैलेंज कर सकती थी ये फ़िल्म, लेकिन शोज़ ही नहीं दोगे तो फ़िल्म लोगों तक पहुँचेगी कैसे?

Pushpa Movie Review in Hindi: रेटिंग

मेरी तरफ से Pushpa को मिलेंगे 5 में से 4.5 स्टार्स, एक तो काफी मज़ेदार डायरेक्शन के लिए। 3 घण्टे वो भी पैसा वसूल।

दूसरा, क्या जबरदस्त कास्टिंग की हैं। अल्लु अर्जुन को लीड में लेने के अलावा सपोर्टिंग कैरेक्टर्स में इतने जबरदस्त परफॉर्मेंस वाले कलाकार और अपने पुलिस भईया, फहाद फाजिल, एकदम किलर।

तीसरा, एक कहानी को सेंटर में डालकर उसके पीछे लिखी गयी काफी सारी छोटी छोटी कहानियों के बीच में दिमाग को फंसाकर रखने के लिए।

चौथा, किसी रोमांटिक गाने की तरह डिज़ाइन किये गए एक्शन सीन्स, जिनमें टोन हैं, इमोशन्स हैं और कमाल के विजुअल्स, परफेक्ट मास सिनेमा।

और आधा स्टार, क्लाइमेक्स में हीरो वर्सेज विलेन के अनप्रेडिक्टेबल फेसऑफ़ के लिए।

ये भी पढ़ें:- Tadap Movie Review: अहान शेट्टी, तारा सुथारिया

वहाँ सच में रोंगटे खड़े हो जाते हैं, कौन किसपे भारी हैं? एकदम से पूरा गेम बदल जाता हैं।

नेगेटिव्ज में आधा स्टार कटेगा, Pushpa को दो भाग में रिलीज़ करने के चक्कर में।

सेकण्ड हाफ़ का स्क्रीनप्ले थोड़ा स्लो और कहीं कहीं पर जबरदस्ती लम्बा खींचने के लिए। फर्स्ट हाफ़ के कम्पेरिजन में यहाँ मामला थोड़ा ठंडा हैं।

देखो बॉस, फ़िल्म देख लो, पक्का मज़ा आएगा, बॉलीवुड से तो काफी आगे हैं। हाँ लेकिन स्पाइडर मैन से कम्पेयर मत करने लगना, वो एक अलग तरीके का एक्सपीरिएंस हैं।

फालतू बातें मत सुनो किसी की, थिएटर जाओ, अल्लु अर्जुन आपको सरप्राइज करने वाले हैं।

और अगर ओटीटी के फैन हो, तो अमेज़ॉन प्राइम पर भी पुष्पा आपको आसानी से मिल जाएगी।

बाकी इस Pushpa रिव्यु में कुछ पसन्द आया हो या कुछ शिकायत करनी हो तो हम आपको फ़ेसबुक पर भी मिल जाएंगे।

Pushpa Movie Review in Hindi: फ़िल्म डिटेल्स

डायरेक्टर – सुकुमार
राईटर – सुकुमार (स्टोरी), श्रीकांत वीसा (डायलॉग)
कलाकार – अल्लु अर्जुन (पुष्पा राज), फहाद फासिल (भँवर सिंह शेखावत), रश्मिका मंदाना (श्रीवल्ली)
रिलीज़ डेट – 17 दिसम्बर 2021
रनिंग टाइम – 2 घण्टे 59 मिनट

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

One comment

Leave a Reply