रश्मि रॉकेट रिव्यू । Rashmi Rocket Movie Review in Hindi

लड़का लड़की, दोनों के बीच अंतर बताना एकदम आसान हैं, बोलना क्या सिर्फ देखकर ही पता चल जाता हैं कि कौन मेल हैं और कौन फीमेल?

सही कहा ना? लेकिन नहीं सब कुछ इतना आसान भी नहीं होता, ये सवाल भी काफी टेढ़ा हैं।

क्या आपको पता हैं एक gender test भी करवाया जाता हैं ये साबित करवाने के लिए की सामने दिखाई देने वाला इंसान लड़की हैं या नहीं।

कुछ समझ नहीं आया? चलो बताता हूँ।

Rashmi Rocket एक नई फ़िल्म हैं जिसे Zee5 पर रिलीज़ किया गया हैं। इस फ़िल्म का टॉपिक एकदम हटके हैं जिसके बारे में बात करना तो दूर कभी सोचा भी नहीं होगा हमनें।

तो फिर देरी किस बात की? शुरू करते हैं Rashmi Rocket review और जानते हैं आखिर माजरा क्या हैं इस gender test वाले टॉपिक का?

Rashmi Rocket Movie Review in Hindi

Rashmi Rocket Cast (स्टार कास्ट)

फ़िल्म में लीड कैरेक्टर के तौर पर हैं तापसी पन्नू जो एक track and field athlete हैं और इस कैरेक्टर का नाम हैं रश्मि वीरा उर्फ़ Rashmi Rocket, ये गुजरात की रहने वाली हैं।

फ़िल्म में रश्मि के पति का कैरेक्टर प्ले किया हैं प्रियांशु पैन्यूली ने जो कैप्टन गगन ठाकुर का रोल प्ले करते हैं। ये इंडियन आर्मी में कैप्टन हैं।

इशित मेहता, ये रश्मि के वक़ील हैं और इस कैरेक्टर को प्ले किया हैं अभिषेक बनर्जी ने।

फ़िल्म में माया भसीन के कैरेक्टर में श्वेता त्रिपाठी और भानुबेन विराह छिब्बर के कैरेक्टर में सुप्रिया पाठक हमें screen पर दिखाई देंगी। सुप्रिया पाठक फ़िल्म में रश्मि की माँ का किरदार निभा रहीं हैं।

Rashmi Rocket Story (कहानी)

गुजरात के एक छोटे से गाँव में रहती हैं रश्मि जो बाहर से बिल्कुल एक आम लड़की हैं लेकिन फील्ड पर पैर पड़ा नहीं कि छोरी के अंदर का उसेन बोल्ट दौड़ लगाने लगता हैं।

अब टैलेंट हैं तो नाम तो बनेगा ही, इसलिए सीधा भारत का प्रतिनिधित्व करने मैडम पहुँच जाती हैं दिल्ली।

जहाँ इनका मुकाबला होने वाला हैं पूरी दुनियाँ के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों से। लेकिन मैडम का टैलेंट था कमाल का तो मिल गया पीठ पर तिरंगा, गले में मैडल साथ ही news में देश की बेटी वाला टाइटल।

रातों रात रश्मि गांव की छोरी से भारत की रॉकेट बन जाती हैं।

ये भी पढ़ें:- सरदार उद्दम मूवी रिव्यू

अब इसके बाद क्या? स्पॉन्सरशिप्स, पैसा, PM के साथ फ़ोटो? ना जी ना, ऐसा कुछ नहीं होता उल्टा रश्मि पहुँच जाती हैं सीधा जेल

अब दिलचस्प बात ये हैं कि रश्मि को पकड़ने कोई महिला पुलिसकर्मी नहीं बल्कि थानेदार साहब खुद आते हैं वो भी 2 मर्द पुलिसकर्मियों के साथ।

और तो और रश्मि को जिस जेल में रखा जाता हैं उसमें कोई महिला नहीं बल्कि मर्द क्रिमिनल कैद हैं।

अब ये कैसे सम्भव हैं? इसलिए क्योंकि कानून और पुलिस की नजर में रश्मि कोई लड़की नहीं बल्कि लड़का हैं और तो ओर डॉक्टर की रिपोर्ट भी यहीं साबित करती हैं की रश्मि मेल हैं फीमेल नहीं।

ये सब पढ़कर आपको भी 440 वॉट का झटका लगा ना, अब रश्मि के साथ क्या हुआ वो लड़की हैं या लड़का? जवाब चाहिए तो फ़िल्म Rashmi Rocket देखों Zee5 पर।

स्पोर्ट्स ड्रामा पर बॉलीवुड में हर साल कुछ ना कुछ आता रहता हैं एक तय पेटर्न के अनुसार। पहले बन्दा उठेगा, फिर गिरेगा और फिर उठ जाएगा। अभी हाल ही में तूफ़ान में भी हमने यहीं देखा था।

लेकिन यहाँ Rashmi Rocket फ़िल्म में रश्मि की कहानी बहुत अलग हैं और जरूरी भी।

ये भी पढ़ें:- Atrangi Re Movie Review: धनुष की लाजवाब ऐक्टिंग का तड़का

क्या आपको हथौड़ा त्यागी याद हैं? वो पाताल लोक वाला most wanted serial killer जिसने 30-40 लोगों को दिन की रोशनी में हाथ में पकड़े एक छोटे से हथोड़े से मार डाला था।

Rashmi Rocket फ़िल्म आपको उस बन्दे के लिए देखनी चाहिए।

देखो तापसी पन्नू तो कहानी में बीच में हैं ही Rashmi Rocket के रूप में, लेकिन हर फिल्म सिर्फ हीरो हीरोइन के लिए देखते देखते बोर नहीं हो गए आप? सुल्तान, दंगल, मेरीकॉम इस बार कुछ नया try करो।

अभिषेक बनर्जी इस फ़िल्म में पहनकर आएंगे काला कोट और भईया जी Rashmi Rocket का केस लड़ने वाले हैं।

इनके ख़िलाफ़ हैं पूरा का पूरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन जो कॉम्पिटिशन के लिए खिलाड़ियों का चुनाव करता हैं।

बस ये जो कोर्ट ड्रामा हैं ये Rashmi Rocket को बाकी स्पोर्ट्स मूवीज़ से अलग बना देता हैं।

जैसे जैसे केस आगे बढ़ता हैं फ़िल्म मजेदार और दिलचस्प हो जाती हैं। पहले तो इस खेल में राजनीति का भंडाफोड़ हो जाती हैं, फिर पुलिस और अंत में खुद देश का कानून।

ये भी पढ़ें:- Bob Biswas Movie Hindi Review: अभिषेक बच्चन

Rashmi Rocket में ये एंगल वाकई दिलचस्प हैं, कानून वाले कोर्ट के डब्बे में खुद कानून को खड़ा कर दिया हैं सही और गलत का फ़ैसला करने के लिए।

जब टीवी पर मेडल वाला मैच आता हैं तो कैसे हम अपने देश के झंडे को सपोर्ट करने के लिए उसके सामने आँखे फाड़कर बैठ जाते हैं, वो चीज़ इस फ़िल्म से एकदम गायब हैं ज्यादा कॉम्पिटिशन दिखाया ही नहीं गया हैं फ़िल्म में।

पूरी फिल्म रश्मि की professional life से ज्यादा personal life पर ज्यादा फोकस करती हैं जो फ़िल्म का लेवल नीचे गिरा देती हैं।

और साथ में, फ़िल्म में बैकग्राउंड में जो फैमिली वाला emotional एंगल डाला गया हैं वो कहीं से भी हमें फ़िल्म से कनेक्ट नहीं करता।

जबरदस्ती एक अलग फ़िल्म को साधारण बनाने की कोशिश की गई हैं जिसकी वजह से पूरा subject कहीं दब सा जाता हैं।

Rashmi Rocket फ़िल्म की स्क्रिप्ट राईटिंग बहुत ही ज्यादा कमजोर हैं, डॉयलोग्स एकदम ठंडे हैं, कुछ भी ऐसा नहीं हैं जो दिमाग को हिला के रख दे।

ये भी पढ़ें:- Tadap Movie Review: अहान शेट्टी, तारा सुथारिया

जबकि फ़िल्म का टॉपिक काफ़ी विवादास्पद था तो one liners तो फ़िल्म में होने ही चाहिए थे फ़िल्म Pink की तरह।

थिएटर से बाहर निकल भी जाओ तो बातें दिमाग़ में घूमती ही रहें लेकिन Rashmi Rocket के मामले में ऐसा कुछ नहीं हैं।

एक लाइन में बताऊँ तो Rashmi Rocket फ़िल्म की कहानी एकदम अलग हैं जिसको आप जानना तो चाहते हो लेकिन फ़िल्म बनाने का तरीका एकदम एवरेज़ हैं, फैमिली ड्रामा 60% और 40% Pink फ़िल्म की तरह।

एक्टिंग और परफॉर्मेंस

गड़बड़ ये हैं Rashmi Rocket फ़िल्म की, की पूरी फिल्म में आपको रश्मि कहीं नहीं दिखेगी, सिर्फ तापसी पन्नू नज़र आएंगी।

हाँ, एक्टिंग में कोई कमी नहीं हैं तापसी की में, लेकिन कैरेक्टर को उसी तरह प्ले किया हैं जैसे बाकी की फिल्मों में करती हैं।

वहीं फ़िल्म के एक दो सपोर्टिंग कैरेक्टर्स को छोड़ दिया जाए तो कोई भी फ़िल्म को सपोर्ट करने के इरादे से एक्टिंग करता हुआ नहीं दिख रहा।

रेटिंग

तो यार मेरी तरफ से Rashmi Rocket को 5 में से 2 स्टार्स।

एक स्टार तो स्पोर्ट्स के फील्ड में अलग और महत्वपूर्ण subject जेंडर टेस्ट को highlight करने के लिए।

एक स्टार लीड कैरेक्टर में तापसी और सपोर्टिंग cast में अभिषेक बनर्जी और प्रियांशु की स्ट्रॉन्ग परफॉर्मेंस के लिए।

बात करूँ नेगेटिव्ज की तो एक स्टार कटेगा तापसी को रश्मि की जगह रश्मि को तापसी दिखाने वाले कमजोर डायरेक्शन के लिए।

एक स्टार फ़िल्म की बेहद कमजोर स्क्रिप्ट राईटिंग के लिए, महत्वपूर्ण subject लेकिन बिल्कुल भी प्रभावशाली नहीं।

ये भी पढ़ें:- अंतिम मूवी रिव्यू

और एक स्टार एथलीट्स के कैरेक्टर्स में जिन एक्टर्स को cast किया हैं वो टीवी सीरियल्स की हेरोइन ज्यादा और खिलाड़ी तो किसी भी दृष्टिकोण से नहीं लगती।

ये चीजें फ़िल्म की आत्मा से छेड़छाड़ कर जाती हैं। साधारण बात ये की अगर तापसी के फैन हो तो Rashmi Rocket फ़िल्म को देख डालो, मजा भी आएगा आप लोगों को।

लेकिन जो complete फ़िल्म देखने वाली audience हैं उसका सिर्फ वक्त बर्बाद होगा।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply