आरआरआर रिव्यू । RRR Movie Review in Hindi

फाइनली RRR movie थिएटर्स में रिलीज़ हो चुकी हैं।

पिछले कई महीनों से कोरोना के कारण फ़िल्म RRR की रिलीज़ डेट्स बदली जा रहीं थी और अब फाइनली 25 मार्च को ये फ़िल्म थिएटर्स में आ चुकी हैं।

फ़िल्म को लेकर लोगों में क्रेज पूरे हिंदुस्तान में काफ़ी तगड़ा बना हुआ हैं और हर तरफ़ इस वक्त सिर्फ RRR की ही बात हो रहीं हैं।

वैसे अगर आपको नहीं पता कि RRR का मतलब क्या हैं तो बता दूँ की इसके हिंदी/अंग्रेजी और तेलुगु में अलग अलग मतलब हैं।

फ़िल्म के तेलुगू वर्जन में जहाँ RRR का पूरा अर्थ “Roudram Ranam Rudhiram” हैं वहीं हिंदी और अंग्रेजी वर्जन में इसका अर्थ “Rise Roar Revolt” हैं।

फ़िल्म कैसी हैं और क्या इसे आपको थिएटर में देखना चाहिए या फिर ओटीटी पर रिलीज़ होने का इंतज़ार करना एक समझदारी भरा निर्णय होगा?

सभी सवालों के जवाब आपको इस RRR review में जानने को मिलेंगे।

RRR Movie Review in Hindi

RRR Movie Cast (स्टार कास्ट)

  • एनटी रामा राव जूनियर – कोमाराम भीम
  • राम चरन – अल्लुरी सीताराम राजू
  • अजय देवगन (कैमियो)
  • आलिया भट्ट – सीता (कैमियो)
  • ओलिविया मोरिस – जेनिफ़र
  • समुुथिराकानी
  • एलिसन डूडी – (लेडी स्कॉट)
  • रे स्टीवेन्सन – स्कॉट
  • श्रिया सरन – सरोजिनी

RRR Movie Details (जानकारी)

  • डायरेक्टर – एसएस राजामौली
  • स्क्रीनप्ले – एसएस राजामौली
  • कहानी – केवी विजयेंद्र प्रसाद
  • डॉयलोग्स – साई माधव बुरा
  • प्रोड्यूसर – डी वी वी दानय्या
  • सिनेमेटोग्राफी – केके सेंथिल कुमार
  • म्यूजिक – एमएम किरामनी
  • रिलीज़ डेट – 25 मार्च 2022
  • रनिंग टाइम – 182 मिनट
  • बजट – 550 करोड़

RRR Movie Rating:- 4/5

RRR Movie Story (कहानी)

फ़िल्म RRR की कहानी दो ऐसे योद्धाओं की हैं जिनमें से एक आग हैं तो दूसरा पानी।

rrr movie story

एक ब्रिटिश सेना में पुलिस ऑफ़िसर हैं तो दूसरा लोगों के दिलों पर राज करने वाला आम आदमी।

फ़िल्म 1920 के दौर पर आधारित हैं जब हिंदुस्तान पर अंग्रेज़ो का राज हुआ करता था।

फ़िल्म की कहानी शुरू होती हैं एक दलित लड़की से जिसे अंग्रेज ऑफ़िसर पकड़कर ले जाते हैं।

तब लोगों का मसीहा भीम उस लड़की को सही सलामत वापस लाने का वादा करता हैं लेकिन उसके लिए ये इतना आसान नहीं हैं क्योंकि उसके सामने सबसे ताकतवर ब्रिटिश पुलिस ऑफ़िसर राम हैं।

अब ये दोनों दोस्त हैं या फिर आप यूँ कह सकतें हैं कि दो जिस्म एक जान हैं लेकिन अब क्या?

क्योंकि इस वक्त ये दोनों एक दूसरे के आमने सामने हैं, एक के लिए उसकी ड्यूटी सब कुछ हैं तो दूसरे के लिए जान की क़ीमत से बड़ी कुछ नहीं।

क्या भीम उस लड़की को बचा पायेगा?

क्या ये जिगरी दोस्त एक दूसरे के ही ख़िलाफ़ हो जाएंगे?

इन सभी सवालों के जवाब आपको मिलेंगे फ़िल्म RRR में।

RRR Movie Review: म्यूजिक

अक्सर हमें फ़िल्मों में बेवज़ह गाने सुनने को मिलते हैं जो ना ही परिस्थितियों से मेल खाते हैं और ना ही scene से, लेकिन फिर भी जबरदस्ती फ़िल्म में गाने घुसा दिए जाते हैं।

लेकिन RRR के मामले में ऐसा बिल्कुल नहीं होगा।

जब भी फ़िल्म में गाना बजेगा, आपको लगेगा कि इसका इस वक्त फ़िल्म में होना बेहद जरूरी हैं।

ये गाने ना सिर्फ परिस्थितियों के अनुसार हैं बल्कि हर scene को ध्यान में रखकर एसएस राजामौली ने इन्हें फ़िल्म में डाला हैं।

ये भी पढ़ें:- Bachchan Pandey movie review

फ़िल्म के कुछ गाने जैसे शोले और नाचो नाचो सभी लोगों की जुबान पर हैं।

वहीं इसके अलावा फिल्म की सबसे ख़ास बात इसका बैकग्राउंड म्यूजिक हैं जो हर scene को काफ़ी इंटेंस लेवल पर पहुँचा देता हैं।

आप जब फ़िल्म को देखोगे तो इसका बैकग्राउंड म्यूजिक आपके रोंगटे खड़े कर देगा।

अलग ही लेवल का वाइब हैं, एकदम तोड़फोड़ बैकग्राउंड म्यूजिक जो थिएटर को किसी क्रिकेट स्टेडियम में बदल देता हैं।

RRR Movie Review: परफॉर्मेंस

फ़िल्म में साउथ के दो बड़े कलाकार जूनियर एनटीआर और राम चरन मुख्य भूमिका निभा रहें हैं।

जूनियर एनटीआर को हम इससे पहले भी कई बार बेहतरीन परफॉर्मेंस करते हुए देख चुके हैं लेकिन फ़िल्म RRR के बाद उनका कद ओर ऊँचा हो गया हैं।

फ़िल्म के इंट्रोडक्शन scene से लेकर क्लाइमेक्स तक उनकी परफॉर्मेंस कमाल की रहीं हैं।

वहीं राम चरन ने अपने स्वार्थी टाइप के किरदार को वाकई बेहतरीन तरीक़े से निभाया हैं।

इनकी परफॉर्मेंस को आप इनकी आँखों से ही देख सकतें हो, इन्हें डॉयलोग्स की जरूरत ही नहीं पड़ती सब कुछ आँखों से बोल देते हैं।

इन दोनों की तारीफ़ आप जितनी ज्यादा करोगे उतनी कम हैं।

दोस्ती हो, दर्द हो, दुश्मनी हो या फिर बदले की भावना, हर एक इमोशन्स में ये आपको भी अपने साथ शामिल कर लेंगे।

इनकी परफॉर्मेंस इस कदर आपके दिमाग पर हावी हो जाएगी कि राम और भीम के इन किरदारों में आप इन दोनों के अलावा किसी दूसरे एक्टर की कल्पना भी नहीं कर पाओगे।

ये भी पढ़ें:- Pushpa movie review

फ़िल्म में आपको बीच बीच में सरप्राइज करने वाले कैमियो देखने को मिलेंगे जिनमें सबसे ज्यादा हाइलाइटेड कैमियो हैं अपने अजय देवगन भईया का।

इन जनाब का अलग ही लेवल का कैरेक्टर हैं जो फ़िल्म की इंटेंसिटी को कई गुना बढ़ा देता हैं।

इनके अलावा सीता के रूप में फ़िल्म RRR में आपको आलिया भट्ट नजर आएंगी।

पिछले कुछ समय से इनको काफ़ी हेट मिल रहीं हैं लेकिन बंदी ने वाकई कमाल की परफॉर्मेंस की हैं।

दिल जीत लिया गुरु।

राम के लिए सीता का प्यार आप इनकी आँखों से ही समझ जाओगे।

साथ ही, फ़िल्म को जिंदा रखते हैं बाकी के सपोर्टिंग कैरेक्टर्स जो हर एक scene में फ़िल्म के लेवल को ऊँचा रखते हैं।

RRR Movie Review: क्या अच्छा क्या बुरा?

देखों दोस्त, RRR को एक मामूली सिनेमा समझने की गलती बिल्कुल भी मत करना, ये एक जादुई अनुभव हैं जिसे कई सालों में एक बार महसूस करने का मौका मिलता हैं।

फ़िल्म में आपको एक्शन और इमोशन्स का कमाल का कॉम्बो देखने को मिलेगा।

ना तो एक्शन काफ़ी ज्यादा हैं और ना ही इमोशन्स काफ़ी कम, सब कुछ एकदम बैलेंस्ड हैं।

एसएस राजामौली ने इतना कमाल का डायरेक्शन किया हैं कि अगर आप फ़िल्म देखने बैठ गए तो क्लाइमेक्स देखें बिना सीट नहीं छोड़ने वाले, दावा हैं मेरा।

फ़िल्म को देखकर आप हँसोगे, रोओगे, चोंक जाओगे, हर तरह के इमोशन्स यहाँ देखने को मिलेंगे दोस्त।

फ़िल्म की लीड कास्ट जूनियर एनटीआर और राम चरन की प्रभावशाली परफॉर्मेंस और साथ ही अजय देवगन और आलिया भट्ट के छोटे छोटे कैमियो फ़िल्म को अलग ही लेवल पर खड़ा कर देते हैं बॉस।

अगर आप मुझसे फ़िल्म का कोई एक पसंदीदा भाग पूछो तो बेझिझक में क्लाइमेक्स को चुनूँगा।

पूरी फिल्म एक तरफ़ और इसका क्लाइमेक्स एक तरफ़।

फ़िल्म में आपको बिना लॉजिक के कोई भी scene नहीं दिखाया गया बल्कि हर scene, हर एक्शन के पीछे का पूरा लॉजिक, पूरी बेकस्टोरी समझाई गयी हैं गुरु।

ये भी पढ़ें:- Ala Vaikunthapurramuloo movie review

हालांकि इतनी सारी अच्छी चीज़ों के साथ RRR में कुछ चीज़ें ऐसी भी हैं जो थोड़ा सा परेशान करती हैं।

जैसे फ़िल्म की लंबाई।

RRR कुल 3 घण्टे लम्बी फ़िल्म हैं जो शायद कुछ लोगों को रास ना आए।

हालांकि एसएस राजामौली के कमाल के स्क्रीनप्ले से आप बिल्कुल भी बोर नहीं होंगे लेकिन अगर फ़िल्म की लंबाई को थोड़ा कम किया जाता तो सच में इसका कोई मुकाबला नहीं होता।

वैसे आपको क्या लगता हैं फ़िल्म RRR की लंबाई एकदम परफेक्ट हैं या इसमें काँटछांट की जरूरत थी?

कॉमेंट्स में बताना जरूर।

इसके अलावा, फ़िल्म RRR की हिंदी डबिंग से मुझे थोड़ी शिकायतें हैं।

इसे थोड़ा ओर बेहतर किया जा सकता था जो हिंदी बेल्ट वाली ऑडिएंस के लिए अच्छा रहता।

हालांकि आपको बता दूँ की फ़िल्म RRR के लीड कैरेक्टर्स राम और भीम की हिंदी डबिंग खुद राम चरन और जूनियर एनटीआर ने ही कि हैं जो कि प्रभास की राधे श्याम से तो बेहतर ही हैं।

देखों बॉस, कुछ लोग फ़िल्म के ट्रैलर या पोस्टर को देखकर सोच रहें होंगे कि RRR एक एक्शन फिल्म हैं लेकिन यक़ीन मानिए ये एक इमोशनल लव लेटर की तरह लिखी गयी कहानी हैं जो आपके दिल और दिमाग में अंदर तक घुस जाएगी।

इसमें कोई शक नहीं हैं कि फ़िल्म में काफ़ी तगड़े एक्शन scenes देखने को मिलेंगे लेकिन कहानी का असली एक्स फ़ेक्टर हैं इसके इमोशन्स।

दोस्ती, जिसके सामने बाकी सारी चीजें फ़ीकी पड़ जाती हैं।

हाँ तो बॉस अब वो सवाल जिसकी तलाश आपको सबसे ज्यादा हैं, क्या फ़िल्म RRR को थिएटर के बजाय ओटीटी पर देखना सही होगा?

देखों दोस्त, ये वो सिनेमा हैं जिसे अगर आपने मिस किया तो सच में पछताने के सिवा हाथ में कुछ नहीं आएगा।

ओटीटी पर आपको वो महसूस नहीं होगा जो थिएटर में जाकर RRR का एक हिस्सा बनने में हैं।

इस फ़िल्म को लेकर पिछले दो सालों से काफ़ी तगड़ी हाइप बनी हुई थी जिसके गवाह आप सब लोग हैं और अब जब फ़िल्म फाइनली रिलीज़ हो गई हैं तो आपको थिएटर में जाकर इसका हिस्सा जरूर बनना चाहिए।

वैसे कुछ लोग इस फ़िल्म को real story पर आधारित बता रहें हैं लेकिन में आपको बता दूँ की फ़िल्म RRR पूरी तरह फिक्शनल हैं हालांकि इसके दोनों मुख्य किरदार राम और भीम real life से inspired जरूर हैं।

अब आपका काम, आपने अभी तक फ़िल्म RRR को देखा या नहीं? कॉमेंट में जरूर बताना।

RRR Review: FAQ’s

फ़िल्म RRR कब रिलीज़ हुई?

फ़िल्म को 25 मार्च के दिन थिएटर्स में रिलीज़ किया गया था।

फ़िल्म RRR की स्टार कास्ट क्या हैं?

फ़िल्म की लीड कास्ट में राम चरन और जूनियर एनटीआर हैं जबकि अजय देवगन और आलिया भट्ट फ़िल्म में कैमियो करते नज़र आएंगे।

फ़िल्म RRR की कहानी क्या हैं?

फ़िल्म 1920 के उस दौर पर बनी हैं जब भारत पर अंग्रेजों का राज हुआ करता था। एक गाँव की दलित लड़की को अंग्रेज ऑफ़िसर जबरदस्ती दिल्ली ले गया जिसे बचाने भीम (जूनियर एनटीआर) दिल्ली गया और अंग्रेज़ो से भिड़ गया।

जहाँ उसकी मुलाकात राम (राम चरन) से हुई जो उसका काफ़ी करीबी दोस्त बना और दोनों ने अंग्रेज़ो के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ी।

फ़िल्म आरआरआर का बजट कितना हैं?

सूत्रों के मुताबिक फ़िल्म RRR को करीब 550 करोड़ रुपये में बनाया गया हैं।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply