Samantar Season 2 Web Series Review in Hindi: MX Player का कमाल का मिस्ट्री शो

घर में घड़ी तो होगी ही आपके, हाथ में भी पहनकर रखते होंगे लेकिन क्या आप जानते हैं? उसमें वक्त आगे नहीं बल्कि पीछे की तरफ घूमता हैं।

उधर एक घण्टा आगे बढ़ा और इधर जिंदगी में से वो चुपचाप कम हो जाता हैं

इंसान चाँद पर पहुँच जाए या फिर जादू को धरती पर बुला ले लेकिन मामूली सी घड़ी की सुई को रोक नहीं सकता।

लेकिन बॉस सिनेमा की दुनियाँ में सब कुछ मुमकिन हैं तो बस इस बार इंसान की लड़ाई सीधे समय के साथ होगी।

कालचक्र, वो जिसमें मेरी आपकी जिंदगी उलझी हुई हैं उसके खिलाफ एक इंसान भगवान को चैलेंज कर बैठा हैं।

Samantar MX Player की नई वेब सीरीज़ जो आपके दिमाग के अंजर पंजर ढीले करके रख देगी, लेकिन महत्वपूर्ण बात ये की इस बार Samantar का दूसरा सीज़न आया हैं।

दिल छोटा मत करो दोस्त जिन्होंने Samantar का पहला सीज़न नहीं देखा उनको टेंशन लेने की जरूरत नहीं हैं क्योंकि यूट्यूब पर MX Player के चैनल पर Samantar Season 1 Recap के नाम से एक वीडियो हैं, बस उसको देख लेना ढाई मिनट में पूरा किस्सा समझ जाओगे और उसके बाद Samantar Season 2 को आराम से देख सकतें हो।

Samantar Season 2 Web Series Review in Hindi

Samantar Season 2 Cast (स्टार कास्ट)

  • स्वप्निल जोशी – कुमार महाजन
  • नीतीश भारद्वाज – सुदर्शन चक्रपाणि
  • तेजस्विनी पंडित – नीमा महाजन / नीमा कुमार महाजन
  • गणेश रेवडेकर – शरद वफगांवकर / शरद वबगांवकर
  • जयंत सावरकर – स्वामी
  • नितिन बोधरे – हनमया
  • अमृत गायकवाड़ – संजू (कुमार का बेटा)
  • प्रताप सोनाले – इंस्पेक्टर संग्राम

Samantar Season 2 Details (जानकारी)

  • डायरेक्टर – समीर विध्वंस, सतीश राजवाड़े
  • राईटर – अम्बर हड़प
  • प्रोड्यूसर – अर्जुन सिंह बरन, कार्तिक निशांदर
  • म्यूजिक – आदित्य बेडेकर
  • सिनेमेटोग्राफी – आकाश अग्रवाल, प्रसाद भेन्डे
  • रिलीज़ डेट – 1 जुलाई 2021
  • ओटीटी प्लेटफॉर्म – MX Player

Samantar Season 2 Story (कहानी)

Samantar season 2 की कहानी कुमार नाम के एक मामूली से इंसान के इर्दगिर्द घूमती हैं जिसको अचानक एक स्वामी जी बताते हैं कि उसकी किस्मत लिए एक दूसरा आदमी भी हैं जो इसी दुनियाँ में रहता हैं।

संक्षेप में बताऊँ तो कुमार और सुदर्शन चक्रपाणि इन दोनों की जिंदगी एक दूसरे के समानांतर हैं।

आसान शब्दों में चक्रपाणि जो अपने अतीत में जी चुका हैं वो कुमार का भविष्य होने वाला हैं।

बस ये सुनते ही कुमार चक्रपाणि को ढूंढ निकालता हैं और खुद को भगवान से भी बड़ा मानकर अपनी किस्मत अपने हाथों से लिखने का फैसला करता हैं।

जो गलतियाँ सुदर्शन चक्रपाणि ने की होंगी अपने अतीत में उन्हें कुमार दोहराएगा ही नहीं और जिंदगी बन जाएगी एकदम परफेक्ट, ये मास्टरप्लान तैयार होता हैं।

ये भी पढ़ें:- The Great Indian Murder Web Series Review in Hindi: प्रतीक गांधी, ऋचा चड्ढा की मर्डर मिस्ट्री

अब ये जो सुदर्शन चक्रपाणि हैं ये कुमार को कुछ डायरीज देता हैं जिसमें उसने अपनी ज़िंदगी से जुड़ी सारी गलतियाँ लिखी हुई हैं बस शर्त इतनी हैं कि रोज डायरी का सिर्फ एक पेज पढ़ना हैं दूसरा पढा तो पूरा खेल बर्बाद।

और एक मजेदार बात ये भी जान लो कि चक्रपाणि ने कुमार को पहले ही खुल्लमखुल्ला चैलेंज कर दिया हैं की चाहें तुम कितनी ही डायरी पढ़ लो और अपनी किस्मत बदलने की कोशिश कर लो लेकिन जो होना हैं वो होकर रहेगा, हमेशा काल से तुम एक कदम पीछे ही रहोगे।

अब इसको पागलपन की हद समझ लो या फिर खुद को भगवान से बड़ा साबित करने की जिद।

कुमार अपना मन बना चुका हैं और चक्रपाणि के चैलेंज को स्वीकार करके काल यानी समय को हराकर दिखाने के लिए तैयार हो जाता हैं।

लेकिन कहानी में ट्विस्ट लेकर आती हैं एक सुंदर मोहतरमा जो रिश्ते में कुमार की कम्पनी में पैसा लगाने वाले एक बड़े सेठ जी की बीवी हैं जो अपना दिल कुमार पर हार चुकी हैं।

दरअसल यहीं औरत चक्रपाणि के अतीत में मौजूद थी जिसकी वजह से उसकी जिंदगी स्वर्ग से नर्क बन गयी और अब बारी कुमार की हैं लेकिन डायरी में कुमार इस औरत के बारे में पहले ही पढ़ चुका हैं।

तो इस बार ऊपर वाले का खेल एक इंसान के सामने क्या फेल हो जाएगा या फिर कुमार का दिल उसके दिमाग पर हावी होकर उसकी जिंदगी को चक्रपाणि के समान बनाकर बर्बाद कर देगा।

ये भी पढ़ें:- Rocket Boys Web Series Review in Hindi दो महान वैज्ञानिकों की कहानी

संक्षेप में काल के चक्र में कुमार फँसेगा या फिर उससे हमेशा के लिए आज़ाद होकर भगवान बन जायेगा?

इसका जवाब MX Player पर पता लगाइए।

देखों दोस्त मेरा खुल्ला चैलेंज हैं, Samantar का जो कॉन्सेप्ट हैं इसके जैसी दूसरी चीज़ आपने ना तो आजतक देखी होगी और ना ही सुनी होगी।

दो इंसान एक दूसरे से किस्मत के रास्ते बंधे हुए हैं एक का अतीत दूसरे के भविष्य को बर्बाद कर सकता हैं।

ये सारी बातें जानकर Samantar के सारे एपिसोड्स एक साथ एक बार में निपटाने का अगर आपका मन नहीं किया तो आपके दिमाग में कुछ गड़बड़ हैं मेरे दोस्त, डॉक्टर से मीटिंग फिक्स करिए।

दो अलग अलग कहानियों को एक साथ जोड़ना वो भी इस तरीके से की दोनों के बीच में जैसे मानों आईना रख दिया गया हो, एक उल्टा तो दूसरे का सीधा इसको बोलते हैं असली क्रिएटिविटी।

बाकी क्लाइमेक्स के बारे में तो पूछो ही मत पूरे 9 एपिसोड्स एक तरफ़ और लास्ट वाला दूसरी तरफ, पूरे दिमाग की ऐसी तैसी हो जाएगी, ऐसा कमाल का सस्पेंस छुपा हुआ हैं जिससे पर्दा उठता हैं तो मुँह फ़टा का फ़टा रह जाता हैं।

स्पेशली जो super natural elements डाले गए हैं वो Samantar season 2 को काफ़ी दिलचस्प बनाते हैं।

ये भी पढ़ें:- भौकाल 2 रिव्यू Bhaukaal Season 2 Review in Hindi MX Player

मरने के बाद इंसान के साथ क्या होता हैं? इस सवाल का जवाब मिलेगा आपको वो भी ऐसा की दुबारा इस बारे में सोचने की हिम्मत नहीं करोगे।

हाँ कुछ चीज़ें हैं जिनके बारे में शो देखने से पहले में आपको चेतावनी देना चाहूँगा।

कुछ अडल्ट और बोल्ड scenes डालें गए हैं Samantar season 2 में तो बच्चों को दूर रखियेगा और साथ में हर दूसरे तीसरे डॉयलोग में गालियाँ भी सुनने को मिलेंगी तो घर वालो के साथ इस शो को देखना खतरों के खिलाड़ी जीतने के बराबर हैं।

जूते चप्पल पढ़ने के पूरे पूरे चांसेज हैं मेरे दोस्त।

और हाँ शो की स्पीड थोड़ी धीमी हैं, पूरी डिटेलिंग के साथ कहानी कछुए की तरह आगे बढ़ती हैं तो धैर्य रखिएगा, बीच में छोड़कर भागने का मन करें तो ठहर जाना।

Samantar Season 2 Review: क्या अच्छा क्या बुरा?

Samantar season 2 का कॉन्सेप्ट काफ़ी यूनीक और फ्रेश हैं, इंसान वर्सेज़ वक्त की रेस ये मजेदार हैं बॉस।

कास्टिंग डायरेक्टर ने काफी अच्छा काम किया हैं जिन्होंने कमाल की कास्टिंग की हैं जो audience के साथ कमाल का कनेक्शन बनाते हैं।

और ऊपर से स्वप्निल जोशी और नीतीश भारद्वाज की जो एक्टिंग परफॉर्मेंस हैं वो इतनी natural और दमदार हैं जैसे मानों ये हकीकत में एक दूसरे के समानांतर जी रहें हो।

शो में जिस तरह अतीत और वर्तमान को आपस में जोड़कर दिखाया गया वो क्रिएटिव नरेशन स्टाइल काफ़ी दमदार हैं दोस्त।

मतलब इतने कंफ्यूजिंग कॉन्सेप्ट को आसान बनाकर audience तक पहुँचाने में मेहनत लगती हैं जिसमें Samantar season 2 के मेकर्स बिल्कुल भी पीछे नहीं हैं।

सीरीज़ का क्लाइमेक्स इसका एक्स फ़ेक्टर हैं जिसे बेहद चालाकी से तैयार किया गया हैं जिसमें इंसान की जिंदगी का असली सच मौत से जुड़े हुए कुछ मज़ेदार सीक्रेट्स बाहर निकलते हैं।

हालांकि Samantar season 2 में सब कुछ अच्छा ही नहीं हैं कुछ बुरी बातें भी हैं जो audience को थोड़ा परेशान कर सकती हैं।

जैसे जबरदस्ती डॉयलोग्स के बीच बीच में घुसाए गए अपशब्द और कुछ कैरेक्टर्स की डबिंग को फालतू में मजाकिया बनाने की नाकाम कोशिश, इस शो कि आत्मा से खिलवाड़ हैं ये बॉस।

Samantar season 2 में आपको कई जगह महसूस होगा कि शो काफ़ी धीमा हो गया हैं और कुछ लोग तो शायद नींद की झपकी लेकर सीधा क्लाइमेक्स में आँखे खोलेंगे।

मतलब अगर शो में 10 के बजाय 8 एपिसोड्स होते तो काम चल जाता गुरु।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply