स्पेशल ऑप्स 1.5 रिव्यू । Special Ops 1.5 Web Series Review in Hindi [2022]

भारत में ओटीटी की दुनियाँ को स्पेशल बनाने वाले 4-5 शोज हैं जिनका नाम आप कभी नहीं भूल सकतें।

उनमें से सबसे best वाली कैटेगरी जो हैं, उसमें Special Ops का जिक्र ना हो, ऐसा हो ही नहीं सकता।

एक पॉवरफुल सोचा समझा खतरनाक भारतीय show जो आतंकवाद जैसे घटिया सोशल मुद्दे को ज़ोरदार तमाचा मार देता हैं।

साथ ही बॉलीवुड के सबसे underrated एक्टर के.के. मेनन का उपलब्ध होना भारतीय audience के लिए कितना बड़ा gift हैं? इस बात का एहसास भी कराता हैं।

Special Ops वाले हिम्मत सिंह कौन हैं और ये क्या क्या कर सकतें हैं? ये हमनें सीज़न 1 में देख लिया था।

लेकिन आखिरकार हिम्मत सिंह, हिम्मत सिंह बने कैसे? ये किस्सा भी बड़ा मज़ेदार हैं जिसको Special Ops 1.5 की शक़्ल देकर मार्केट में रिलीज़ कर दिया गया हैं।

Special Ops 1.5 Web Series Review in Hindi

special ops 1.5 web series review in hindi

स्टार कास्ट

Special Ops 1.5 के मुख्य कैरेक्टर हैं हिम्मत सिंह जिनका कैरेक्टर प्ले कर रहें हैं के.के. मेनन, जिन्हें हम Special Ops के पहले सीज़न से देखते आ रहें हैं।

जबकि इस बार शो में entry हुई हैं आफताब शिवदासानी की जो विजय कुमार के कैरेक्टर को प्ले करते हुए नजर आएंगे।

वहीं सब इंस्पेक्टर अब्बास शेख़ के रूप में एक बार फिर से विनय पाठक हमारा ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने में लगे हुए हैं।

ये भी पढ़ें:- रंजिश ही सही वूट वेब सीरीज़ रिव्यू: महेश भट्ट की जिंदगी पर आधारित

Special Ops 1.5 का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कैरेक्टर मनिंदर सिंह जो कि विलेन का कैरेक्टर हैं इसे निभा रहें हैं आदिल खान

इसके अलावा सरोज के कैरेक्टर में गौतमी कपूर, नरेश चड्ढा के कैरेक्टर में परमीत सेठी और डी.के. बनर्जी का कैरेक्टर प्ले कर रहें हैं काली प्रसाद मुखर्जी

स्टोरी

कहानी उस वक्त की हैं जब बड़े बड़े भारतीय ऑफ़िसर्स हनी ट्रेप का शिकार हो गए थे।

मतलब एक सुंदर हसीना खूबसूरती का जाल बिछाकर सीक्रेट information नाक के नीचे से चुरा ले जाती थी।

लेकिन इतना ही नहीं, ये सारे के सारे ऑफ़िसर्स कुछ वक्त के बाद जिंदा ही नहीं बचे।

देश बदल गए, केस बदल गए लेकिन इन सब की मौत असामान्य तरीकों से होती चली गई – blackmail या suicide, कुछ भी हो सकता हैं।

अब आग इतनी भयानक लगी हैं तो फायर डिपार्टमेंट के सबसे होशियार ऑफ़िसर को बुलाना ही पड़ेगा।

बस हिम्मत सिंह को केस की जिम्मेदारी दी जाती हैं और इन सभी ऑफ़िसर्स की मौत को रोकना, साथ ही चोरी हुई सीक्रेट information को मार्केट में बाहर ना जाने देना, ये इन जनाब का मिशन बन जाता हैं।

ये भी पढ़ें:- Kaun Banegi Shikharwati वेब सीरीज़ रिव्यू

कुछ वक्त के बाद एक चेहरा सामने आता हैं जिसके पास इस केस से जुड़े सभी सवालों के जवाब मौजूद हैं।

और दिलचस्प चीज़ ये हैं कि हमारे हिम्मत सिंह इस बन्दे को काफ़ी अच्छे से जानते पहचानते हैं।

देखो बॉस, शो बनाया गया हैं एकदम सुपरफास्ट स्टाइल में, सिर्फ चार एपिसोड्स हैं जो भागते हैं बिल्कुल खरगोश की तरह।

आँखें झपकाने का भी वक्त नहीं मिलता, इधर आँख बंद हुई उधर कुछ काम की बातें miss हो गयी।

कहानी को दिलचस्प बनाते हैं कुछ नए कैरेक्टर्स जो पिछले सीज़न में गायब थे और इस बार प्रकट हो गए हैं।

स्पेशली जो विलेन वाली कैटेगरी हैं उसमें तेज दिमाग के साथ खूबसूरत चेहरों का इस्तेमाल करना ये चीज़ अलग लेवल पर दिमाग को hit करती हैं।

लड़की का चक्कर बाबू भईया, वो चेतावनी इस show में भली भांति समझ में आएगी।

ये भी पढ़ें:- Human वेब सीरीज़ रिव्यू: डिज़्नी प्लस हॉटस्टार स्पेशल सीरीज़

सबसे मजेदार चीज ये हैं कि Special Ops 1.5 के हर एपिसोड में हिम्मत सिंह से जुड़े अलग अलग किस्से सुनने को मिलते हैं।

मतलब शो एक हैं लेकिन कहानियाँ बहुत सारी हैं जिनको बड़े मज़ाकिया तरीके से प्रस्तुत किया गया हैं और खूबसूरत बात ये हैं कि सभी कहानियों को एक दूसरे से इस तरीके से जोड़ा गया हैं जिससे main कहानी बिल्कुल भी disturb नहीं होती।

नीरज पांडे इतने चालाक डायरेक्टर हैं की ये कब आपके दिमाग से खेल जाएंगे? आपको ख़बर तक नहीं होगी।

इसीलिए Special Ops 1.5 शो का हर एपिसोड ऐसी जगह पर ख़त्म किया जाता हैं जहाँ दिमाग का झोपड़ा हो जाता हैं।

एक ऐसा छुपा हुआ surprise भी बाहर आता हैं जिस पर सीज़न 1 में पर्दा डाल दिया गया था।

और हम audience के तौर पर इस सच को पकड़ने में पूरी तरह चूक गए थे। दिमाग घूम जाएगा आपका।

लेकिन देखो, इतनी अच्छाईयों के बाद कुछ खामियाँ भी हैं, वो भी फ़टाफ़ट पढ़ लो एक नजर डालकर।

ये भी पढ़ें:- Campus Diaries MX Player वेब सीरीज़ रिव्यू: हर्ष बेनीवाल, ऋत्विक साहोरे

एक तो इस वाले शो की तुलना सीज़न 1 से बिल्कुल मत करना। वहाँ लम्बे लम्बे 8 एपिसोड्स थे, सब कुछ एकदम छोटी छोटी डिटेल्स के साथ प्रस्तुत किया गया था और पूरी complete कहानी दिखाई गई थी, शुरुआत से लेकर अंत तक।

लेकिन Special Ops 1.5 detailing के मामले में काफ़ी कमजोर हैं।

किस्से कहानियाँ सिर्फ ऊपर ऊपर से जितना जरूरी हैं उतना दिखाके बाकी चीजें audience के ऊपर छोड़ दी जाती हैं। आप दिमाग लगाओ और कहानी को पूरा करो।

एक गड़बड़ ये भी हैं कि इस सीज़न में बातें ज़्यादा हैं लेकिन ढिशुम ढिशुम कम।

लम्बे लम्बे डॉयलोग्स वाली बातें हैं लेकिन एक्शन के नाम पर चार पाँच गोलियों वाले scenes ही मिलेंगे देखने को।

एक्टिंग और परफॉर्मेंस

भईया विलेन वाला main कैरेक्टर – आदिल खान, इस बन्दे की आवाज़ ही काफ़ी हैं रात में सोते हुए इंसान का सुख चैन सब कुछ छिनने के लिए। जबरदस्त परफॉर्मेंस।

के.के. मेनन के सामने खड़े होना, वो भी इस confidence के साथ की हीरो विलेन से कमजोर दिखने लग जाए, ये हर किसी के बस की बात नहीं हैं।

एक्टिंग चाहिए कमाल की, लोगों के दिल दिमाग में डर भरने के लिए।

Special Ops की बात हो और वहाँ के.के. मेनन का जिक्र ना हो, भला ऐसा कैसे हो सकता हैं। इन्होंने Special Ops को असल मायने में स्पेशल बनाया हैं।

ये भी पढ़ें:- ये काली काली आँखें वेब सीरीज़ रिव्यू

ये हिम्मत सिंह के कैरेक्टर को मनगढ़ंत से असली बनाने में लगे हुए हैं।

एक तो इनका transformation, जवानी के दिनों में वापस लौटना वो भी उसी attitude और ज्यादा energy के साथ, किसी भी एक्टर के लिए बहुत मुश्किल होगा।

लेकिन के.के. मेनन एकदम ब्रेड पर मक्खन की तरह पूरे सीज़न को ओर भी ज्यादा टेस्टी बना देते हैं।

मतलब कोई भी scene हो funny, emotional, tension, गुस्से वाला, डर या फिर sarcasm, इन जनाब के लिए सब कुछ बाएं हाथ का खेल हैं।

एक एक सेकंड में ये भाईसाहब दस दस expression बदलतें हैं, सेल्यूट हैं इनके टैलेंट को।

रेटिंग

तो यार मेरी तरफ़ से Special Ops 1.5 को 5 में से 3.5 स्टार्स।

एक स्टार audience के कीमती वक्त को बिल्कुल भी बर्बाद ना करने वाले तेज सुपरफास्ट स्क्रीनप्ले के लिए।

एक स्टार कहानी को छोटे छोटे मज़ेदार किस्सों में तोड़कर अंत में सब कुछ एक दूसरे से जोड़ने वाले शातिर चालाक डायरेक्शन के लिए।

एक स्टार हीरो के तौर पर के.के. मेनन और विलेन के रूप में आदिल खान, इन दोनों की जबरदस्त परफॉर्मेंस के लिए। मुकाबला एकदम टक्कर का होगा बॉस।

साथ ही, आधा स्टार छोटे छोटे roles में cast किये गए बड़े बड़े टैलेंटेड एक्टर्स के intelligent तरीके से लिखें गए कैरेक्टर्स के लिए।

बात करूँ negatives की तो एक स्टार कटेगा ज्यादा फोकस डॉयलोग्स पर डालकर एक्शन scenes को गायब करने वाले unexpected आईडिया के लिए।

और आधा स्टार डिटेल्स को नजरअंदाज करके कुछ ऊपर ऊपर से प्रस्तुत करना, जिसकी वजह से वो जुड़ाव feel नहीं हो पाता जो सीज़न 1 के साथ हुआ था।

अभी बारी आपकी हैं। शो देख लिया तो नीचे कॉमेंट्स में अपना रिव्यू जरूर शेयर करना, नहीं देखा तो किसका इंतज़ार कर रहें हो?

देखने का कोई plan हैं भी या नहीं? फ़टाफ़ट लिख के बता दो।

इस हफ़्ते ओर क्या देखें?

Mumbai Diaries 26/11 – Special Ops 1.5 के टक्कर की वेब सीरीज़ देखने का मन हैं तो इसे देखों, 26/11 के हमले पर आधारित इस सीरीज़ में आपको पैसा वसूल मनोरंजन मिलेगा।

Aranyak – नर तेंदुए की जबरदस्त कहानी जो देखने वाले के रोंगटे खड़े कर दे, रवीना टण्डन की इस सीरीज़ को इस हफ़्ते की watchlist में शामिल किया जा सकता हैं।

Matsya Kaand – Special Ops सीरीज़ के फैन्स के लिए एक ओर पेशकश, मत्स्या कांड में हालांकि आपको मारधाड़ वाला एक्शन नहीं मिलेगा लेकिन दिमागी एक्शन से भरपूर ये सीरीज़ आपको full entertain करेगी।

Inside Edge Season 3 – क्रिकेट प्रेमियों के लिए जबरदस्त तोहफ़ा, ये सीरीज़ हमें सब कुछ देती हैं, शानदार क्रिकेट scenes, जबरदस्त twists, कमाल का thrilling experience, इस हफ़्ते का एक ओर बेहतरीन विकल्प।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply