टब्बर रिव्यू: Tabbar Web Series Review in Hindi [2022]

क्या आप butterfly effect समझते हैं? दुनियाँ के किसी कोने में अगर एक छोटा सी सुंदर सी तितली अपने पंख फड़फड़ाती हैं तो उस मामूली घटना के साथ बाकी पूरी दुनियाँ सीधे connected होती हैं।

वहाँ कुछ बदला तो असर यहाँ आपकी ज़िंदगी पर भी पड़ेगा। ये छोटी छोटी चीजे मिलकर कुछ बहुत बड़ा कर सकती हैं।

बस इसी मजेदार कॉन्सेप्ट पर आधारित हैं SonyLiv का नया शो Tabbar, हिंदी में बोलूँ तो परिवार।

फैमिली के लिए कोई बन्दा किस हद तक जा सकता हैं? बस उस पागलपन को 8 एपिसोड्स की शक्ल दी गई हैं।

Tabbar Web Series Review in Hindi

tabbar web series review in hindi

Tabbar Cast (स्टार कास्ट)

Tabbar वेब सीरीज़ के लीड कैरेक्टर्स हैं ओमकार सिंह और सरगुन कौर, जहाँ ओमकार सिंह का कैरेक्टर प्ले कर रहें हैं पवन मल्होत्रा जबकि सुप्रिया पाठक हमें सरगुन के किरदार को प्ले करती हुई नजर आएंगी।

दूसरा दिलचस्प कैरेक्टर हैं अजीत सोढ़ी का जिसे निभाया हैं रणवीर शोरे ने जबकि इंद्रजी के कैरेक्टर में हैं कंवलजीत सिंह।

ओमकार और सरगुन के 2 सुपुत्र भी हैं, जहाँ बड़े बेटे का कैरेक्टर हैं हैप्पी जिसे निभा रहें हैं गगन अरोड़ा जबकि छोटे बेटे तेजी के कैरेक्टर में दिखाई देंगे साहिल मेहता

Tabbar Story (कहानी)

Tabbar वेब सीरीज़ की कहानी शुरू करने से पहले मेरी एक चेतावनी उन लोगों के लिए जो कमजोर दिल वाले हैं, SonyLiv का ये शो आपके लिए बिल्कुल नहीं हैं मेरे दोस्त।

क्या फ़ायदा, 50% scenes आँखे बंद करके देखने पड़ेंगे आपको।

ये शो खून खराबे से भरा पड़ा हैं और तो ओर अचानक से screen पर बिना किसी चेतावनी के कुछ भी दिखाया जा सकता हैं, तो प्लीज दूर रहना मजाक की बात नहीं हैं।

ये भी पढ़ें:- रंजिश ही सही वूट वेब सीरीज़ रिव्यू: महेश भट्ट की जिंदगी पर आधारित

काली रात में सुनसान जंगल के बीचों बीच एक पति पत्नी बैठे हैं कार में, उनके सामने एक लाश पड़ी हैं जिसका सिर ढका हुआ हैं लेकिन पैर खुले हुए हैं।

लेकिन इस लाश के साथ आखिर करना क्या हैं? वो खुद नहीं जानते। आँखों में आँसू भी हैं और दिल में डर सबसे ज्यादा।

मिलिए फैमिली मेन ओमकार सिंह से, सर जी पुलिस की नोकरी से रिटायर्ड हुए हैं, जिसकी भी अतीत में छुपी हुई एक अलग कहानी हैं।

फ़िलहाल अपने अंकल जी साबुन, बिस्किट, नमकीन बेचने वाली दुकान से घर का ख़र्चा चला रहें हैं और आंटी खाना बनाने में चेम्पियन हैं, किचन क्वीन।

हाउस वाइफ वाली ड्यूटी को एकदम 100 में से 100 नम्बर के साथ फिनिश करना चाहती हैं।

ये भी पढ़ें:- Kaun Banegi Shikharwati वेब सीरीज़ रिव्यू

घर वाले ही इनकी ज़िंदगी हैं जिनसे प्यार करने में कोई कमी नहीं रखती हमारी आंटी जी।

बड़ा बेटा हैप्पी, ये रहता हैं दिल्ली में और आईपीएस की तैयारी कर रहा हैं। पुलिस में बड़ा ऑफ़िसर बनने का सपना हकीकत में बदलना चाहता हैं, जल्दी से जल्दी।

लेकिन बन्दे के कई सारे सीक्रेट्स हैं जिनमें से सबसे छोटा वाला ये की घर के पड़ोसी अंकल की बेटी के साथ इसका टाँका भिड़ा हुआ हैं, एकदम सीरियस वाला, no टाईमपास।

और छोटे बेटे की तो बात ही मत पूछो, ये भाईसाहब उड़ता पंजाब के कुछ ज्यादा ही बड़े फैन हैं।

ये जनाब अपने नशेड़ी दोस्त के साथ singing चैनल बनाकर यूट्यूबर बनना चाहता हैं, लेकिन जिंदगी में गाना बजाना कम और धुएँ के छल्ले ज्यादा बन रहें हैं।

अब इन चारों की ज़िंदगी बेहद साधारण तरीक़े से आगे बढ़ती रहती हैं अगर शहर में एक खतरनाक मर्डर ना हुआ होता।

और वो भी जानते हो किसका? शहर के सबसे अमीर और पॉवरफुल आदमी अजीत सोढ़ी के छोटे भाई का, जिस पर ये बन्दा अपनी जान छिड़कता था।

ये भी पढ़ें:- Human वेब सीरीज़ रिव्यू: डिज़्नी प्लस हॉटस्टार स्पेशल सीरीज़

जब से उसकी लाश देखी हैं कसम खा ली हैं की जिसनें भी ये किया हैं उसको मौत जरूर मिलेगी लेकिन वो भी सबसे भयानक वाली, जिसे पूरा शहर याद रखेगा।

देखो बॉस, अगर आप सस्पेंस, मिस्ट्री जैसी कैटेगरी में शोज़ देखना पसंद करते हो तो Tabbar एक लॉटरी की तरह हैं।

बहुत ही ज्यादा धोखेबाज शो हैं, गिरगिट की तरह रंग बदल जाता हैं एक एक सेकंड में। इतने सारे ट्विस्ट और टर्न्स हैं कि दिमाग दीवाली वाली चकरी की तरह घूमने लगेगा। क्या सच हैं क्या झूठ? कुछ समझ ही नहीं आता।

इस शो में एक वक्त ऐसा भी आएगा जब कौनसा कैरेक्टर अच्छा हैं कौनसा बुरा, इसको चुनना भी बड़ा मुश्किल हो जाएगा आपके लिए।

एक तो शो के बीच में तीन बड़ी मजेदार चीज़ रखी हुई हैं, परिवार, राजनीति और मर्डर।

और फिर उसके चारों तरफ़ इतने कमाल के एक्टर्स जो नकली कहानी को भी असली कहानी बनाके प्रस्तुत करना जानते हैं।

Tabbar की कहानी भी इस तरह लिखी गयी हैं कि आपके दिमाग को चेन की सांस भी ना लेने दे। जिधर देखों उधर खून पड़ा हैं।

हर शख्स जो screen पर दिखाई देता हैं वो किसी दूसरे इंसान की जान ले सकता हैं।

सारे के सारे कैरेक्टर्स धोखेबाज type के हैं। सबका अपना dark सीक्रेट हैं।

ये भी पढ़ें:- Campus Diaries MX Player वेब सीरीज़ रिव्यू: हर्ष बेनीवाल, ऋत्विक साहोरे

हर किसी पे बार बार शक करवाने वाली राईटिंग, यहीं चीज़ इस शो का एक्स फ़ेक्टर हैं, आप दिमाग लगाते रह जाओगे अंतिम scene तक।

दृश्यम तो याद हैं ना, उसकी कहानी के बीच में भी फैमिली को डाला गया था। काफ़ी सारी जगह इस शो में दृश्यम की याद आएगी आपको। वैसे दृश्यम फ़िल्म देखी तो हैं ना आपने?

परिवार को बचाना हैं किसी भी कीमत पे, सही – गलत, भगवान – शैतान, ये सब कुछ अब मैटर नहीं करता, मैटर करता हैं तो सिर्फ परिवार

और इस शो के डायरेक्टर के दिमाग में पता नहीं क्या क्या चलता होगा? जो इतना हैरान परेशान करने वाला शो बनाया इन्होंने यार।

चलो खून खराबा तो हम देखते रहतें हैं फिल्मों में और सीरीज़ में, लेकिन उसको इतना साधारण बनाना जैसे कुछ हुआ ही ना हो। किसी की मौत को म्यूजिक के साथ नाच गा कर जश्न मनाना, ये चीज़ अंदर से हिला देती हैं बॉस, real life में भी डर घुस जाएगा।

डायरेक्शन का लेवल इतना ख़तरनाक हैं की एक बेचारे छोटे से कौए को इस तरह दिखाया हैं की उसे screen पर देखकर धड़कने एकदम रुक सी जाती हैं।

चलो मेरी बातों पर भरोसा नहीं हैं तो भईया एक काम करो, फटाफट इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद सीधा शो देखने लग जाना।

रेटिंग

तो यार मेरी तरफ से Tabbar वेब सीरीज़ को 5 में से 4 स्टार्स।

एक स्टार तो बहुत ही ज्यादा unpredictable राईटिंग के लिए। कब किस scene में क्या हो जाए? कुछ अंदाजा नहीं लगा सकतें।

एक स्टार हिंसा को एक जश्न की तरह प्रस्तुत करने वाले जबरदस्त डायरेक्शन के लिए, सच में दिमाग में डर अंदर तक घुस जाता हैं।

एक स्टार कहानी को पूरे आठ एपिसोड्स तक दिलचस्प बनाके रखना और वो भी इतना कि दिमाग शांत होने का नाम ना लें।

इसके लिए टैलेंट चाहिए बॉस, तो ये वाला सितारा dark, intense and intelligent स्क्रीनप्ले के लिए।

और लास्ट वाला एक स्टार तो जी कास्टिंग को ही जाएगा। क्या जबरदस्त एक्टर्स हैं सारे के सारे। कमाल की एक्टिंग।

ये भी पढ़ें:- ये काली काली आँखें वेब सीरीज़ रिव्यू

सुप्रिया पाठक और पवन मल्होत्रा की तगड़ी कैमेस्ट्री, जैसे मानों हकीकत में पति पत्नी हों ये लोग, जो सामने आएगा उसको तो जैसे खा जाएंगे।

गगन अरोड़ा और साहिल मेहता का बड़ा बेटा छोटा बेटा वाला कैरेक्टर इतना परफेक्ट बना दिया इन लोगों ने की हर scene में शक होगा ही होगा।

और भईया रणवीर शोरे तो टॉपर हैं एक्टिंग वाली क्लास के, इनको कुछ भी मुहँ से बोलने की जरूरत ही नहीं हैं। बस स्क्रीन पर इनका एक look ही काफ़ी हैं आपके अंदर डर भरने को।

अब बारी नेगेटिव्ज की तो आधा स्टार कटेगा कुछ कुछ scenes surprisingly थोड़े फ़िल्मी हो जाते हैं बॉलीवुड की तरह, over the top, जिन पर भरोसा करने को दिल ही नहीं मानता।

और बाकी का आधा स्टार शो की ending बहुत ही हड़बड़ी और जल्दी में करने के लिए, थोड़ा रुककर आराम से ठहरकर explain कर देते तो ओर भी तगड़ा प्रभाव पड़ता audience पर।

लेकिन दोस्त इन छोटी मोटी चीज़ों को इग्नोर मारो और मेरी बात मानकर आज की शाम Tabbar के नाम लिख दो।

सच में दिमाग का इससे अच्छा इस्तेमाल करने का ओर कहीं मौका नहीं मिलेगा दुबारा।

इस हफ़्ते ओर क्या देखें?

Special Ops 1.5 – हिम्मत सिंह आखिर हिम्मत सिंह बना कैसे? अगर नहीं पता तो अभी ये वाली सीरीज़ देखो पता चल जाएगा। गारन्टी देता हूँ मजा बड़ा आएगा आपको।

Mumbai Diaries 26/11 – कभी डॉक्टर्स की ज़िंदगी को करीब से देखा हैं आपने? अगर नहीं तो अमेज़ॉन प्राइम पर मौजूद इस सीरीज़ को एक बार जरूर देखना। डॉक्टर्स को भगवान का दूसरा रूप क्यों कहा जाता हैं? इस सीरीज़ में आपको जवाब मिल जाएगा।

Cubicles Season 2 – ऑफ़िस life पर बनी इस वेब सीरीज़ को आप SonyLiv पर बड़े आराम से देख सकतें हो। 9 से 5 वाली जॉब्स में किस तरह किसी इंसान को जद्दोजहद करनी पड़ती हैं? Cubicles के इस सीज़न में आपको करीब से जानने को मिलेगा।

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए!

Leave a Reply